प्रयागराज : महंत नरेंद्र गिरि को बाघंबरी मठ में दी गई भू-समाधि, देखें Photos

0 311

निरंजनी अखाड़े के महंत और अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि को भू-समाधि दी गई है। बुधवार को प्रयागराज के बाघंबरी मठ में पूरी प्रक्रिया के साथ नरेंद्र गिरि को भू-समाधि दी गई।

महंत नरेंद्र गिरि को भू-समाधि देने का काम बलबीर गिरि द्वारा किया जा रहा है। बता दें कि नरेंद्र गिरि ने उन्हें अपने कथित सुसाइड नोट में उत्तराधिकारी बताया है। बुधवार को ही महंत नरेंद्र गिरि का पोस्टमॉर्टम हुआ था।

सुसाइड नोट में जताई थी ये ख्वाहिश-

महंत नरेंद्र गिरि को पूरे वैदिक विधि-विधान से भू समाधि दी गई। बता दें कि महंत नरेंद्र गिरि ने अपने सुसाइड नोट में ये ख्वाहिश जताई थी कि मठ के पार्क में उन्हें समाधि दी जाए।

महंत नरेंद्र गिरि के पार्थिव शरीर को जब संगम पर ले जाया गया, तब भारी भीड़ होने के कारण स्नान की पूरी प्रक्रिया को ट्रक के अंदर ही पूरा किया गया। इसके बाद पार्थिव शरीर को हनुमान मंदिर में ले जाया जाएगा।

शवआसन की मुद्रा में लेटाया-

फिर महंत नरेंद्र गिरि के पार्थिव शरीर को बाघंबरी मठ लाया गया है और उनको मंत्रोच्चारों के बीच भू-समाधि दी गई। इस दौरान बड़ी संख्या में साधु-संत यहां पर मौजूद रहे।

बताया गया है कि 10-12 फीट का गड्ढा खोदकर नरेंद्र गिरि को भू-समाधि दी गई। इसमें उनको शवआसन की मुद्रा में लेटाया गया है।

सोमवार को हुआ नरेंद्र गिरि का शव बरामद-

बता दें कि सोमवार शाम को अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि की मौत हुई थी। शाम को पुलिस को जानकारी मिली, जिसके बाद शव बरामद किया गया।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में ये आई मौत की वजह-

निरंजनी अखाड़े के महंत और अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि की मौत से जुड़े मामले में एक बड़ी खबर समाने आ रही है। नरेंद्र गिरि की शुरूआती पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई।

इस पोस्टमार्टम रिपोर्ट में नरेंद्र गिरि की मौत की वजह सामने आई है। इस रिपोर्ट के मुताबिक महंत नरेंद्र गिरि की मौत फांसी लगने से हुई है। जांच के लिए विसरा को सुरक्षित रख लिया गया है।

निष्पक्ष जांच के लिए एसआईटी का गठन-

करीब ढाई घंटे तक चले पोस्टमार्टम की रिपोर्ट पुलिस के उच्चाधिकारियों को सीलबंद लिफाफे में सौंप दी गई है। पोस्टमार्टम वाली जगह को सुबह से ही छावनी में तब्दील किया गया और किसी भी मीडियाकर्मी को भीतर जाने की अनुमति नहीं दी गई।

मालूम हो कि​ इस हाईप्रोफाइल मामले की निष्पक्ष जांच के लिए डीआईजी प्रयागराज रेंज ने 18 सदस्यीय एसआईटी का गठन किया गया है जो इस पूरे मामले से जुड़े एक-एक तथ्यों की बारीकी से जांच कर घटना की सत्यता का पता लगाएंगे।

यह भी पढ़ें: नरेंद्र गिरि की शुरुआती पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई, इस वजह से हुई महंत की मौत

यह भी पढ़ें: महंत नरेंद्र गिरि मौत मामला : सपा नेता का नाम आया सामने, छानबीन में जुटी पुलिस

(अन्य खबरों के लिए हमेंफेसबुकपर ज्वॉइन करें। आप हमेंट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप हेलो एप्प इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More