एम्स डॉक्टरों ने पीएम मोदी को चिट्ठी लिख कहा- एक दिन हमारी जिंदगी जी कर देखिए

0 169

यहां एम्स के डॉक्टरों ने प्रमोशन और हाई सैलरी के मुद्दे पर राजस्थान के डॉक्टर्स का सपोर्ट किया है। पीएम नरेंद्र मोदी को लिखे लेटर में एम्स के डॉक्टरों ने कहा, “आप एक दिन के लिए हमारी जिंदगी जीकर देखिए, आपको तनाव का अंदाजा हो जाएगा।” रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान के सरकारी डॉक्टर 16 दिसंबर से हड़ताल पर हैं।

Also Read: सीमा पर ‘नापाक’ हरकत, तीन जवान शहीद

हॉस्पिटलों के डॉक्टरों पर दबाव समझा जाये

एम्स रेसिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (आरडीए) ने शनिवार को मोदी से अपील की कि वे सरकारी हॉस्पिटलों के डॉक्टरों पर दबाव को समझें, क्योंकि वहां बेहद खराब इन्फ्रास्ट्रक्चर होता है। इमरजेंसी के हालात में मरीज के परिजन उनके साथ खराब बर्ताव भी करते हैं। हमारी खुशकिस्मती है कि हमारे पास आप जैसा काम करने वाला प्रधानमंत्री है। हमारी आपसे रिक्वेस्ट है कि आप एक दिन व्हाइट एप्रिन पहनकर एक दिन सरकारी हॉस्पिटल के डॉक्टर के साथ गुजारें और खुद डॉक्टर के चेहरे पर दबाव को महसूस करें। सही इलाज न मिल पाने से मरीज के परिजन नाराजगी जताते हैं। संसाधन न होने से हेल्थकेयर सिस्टम मरता जा रहा है। मोदी को एम्स आरडीए के प्रेसिडेंट हरजीत सिंह भट्टी ने लेटर लिखा है।

Also Read: बलून में बैठकर ‘काशी दर्शन’ के लिए हो जाइए तैयार

शोहरत पाने के लिए डॉक्टरों पर आरोप लगाते हैं मंत्री

लेटर यह भी कहा गया, “आपका (मोदी) ऐसा करना मंत्रियों के लिए एग्जाम्पल होगा। मंत्री केवल सस्ती शोहरत पाने के लिए डॉक्टरों के खिलाफ बयान देते रहते हैं। आपका सरकारी डॉक्टर के साथ एक दिन गुजारना स्वास्थ्य सेवाओं की बेहतरी के लिए कारगर साबित होगा। आंदोलन कर रहे कई डॉक्टर राजस्थान एसेंशियल सर्विस मेंटेनेंस एक्ट (RESMA) के तहत 3 महीने के लिए गिरफ्तार कर लिए गए थे। ऑल राजस्थान इन सर्विस डॉक्टर्स एसोसिएशन ने अपनी मांगों के लिए अनिश्चितकालीन हड़ताल की बात कही थी। जानकारी के अनुसार राजस्थान के सरकारी डॉक्टर 16 दिसंबर से स्ट्राइक कर कर रहे हैं। RESMA के तहत 86 डॉक्टरों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

Also Read: ट्रिपल तलाक पर मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की लखनऊ में आपात बैठक

डॉक्टरों पर हों रहे टॉर्चर बंद करें  

राजस्थान के डॉक्टरों की मांगों को राज्य सरकार ने पहले स्वीकार कर लिया गया था लेकिन बाद में मानने से मना कर दिया। इससे डॉक्टर नाराज हो गए। हमारी आपसे रिक्वेस्ट है कि राजस्थान सरकार से अपना वादा पूरा करने और डॉक्टरों पर टॉर्चर बंद करने को कहें।”

साभार: (www.dainikbhaskar.com)

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)
Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More