बेसहारा मां का सहारा बना यूपी पुलिस का ये दारोगा

0 265

उत्तर प्रदेश पुलिस पर वैसे बहुत से आरोप लगते है कभी रिश्वतखोर, कभी गालीबाज तो कभी गुंडा पुलिस (Police) और इस तरह के आरोप से न सिर्फ पुलिस पर सवाल खड़े होते हैं बल्कि उसकी छवि भी खराब होती है।

लेकिन इन सब बातों से इतर कुछ ऐसे भी पुलिसवाले हैं जो पुलिस की छवि को बेदाग रखने और जनता की हमेशा मदद करने के लिए तैयार रहते हैं। उन्हीं कुछ लोगों में से हैं एसपी ऑफिस में तैनात दारोगा शैलेश यादव जिन्होंने एक बेसहारा महिला के लिए मसीहा बन गए हैं।

daroga

एसपी ऑफिस में तैनात हैं दारोगा शैलेश यादव

रायबरेली के एसपी ऑफिस में तैनात दारोगा शैलेश यादव ने एक बेसहारा महिला के लिए फरिश्ता बनकर उसको सहारा दिया है। शैलेश ने बेसहारा महिला को जीवन यापन के लिए एक परचून की दुकान अपने पैसे से खुलवाकर दी है जिससे उसका जीवन निर्वहन हो सके।

daroga

महिला के पति और बेटे की हादसे में हो गई थी मौत

दरअसल, दारोगा का नाम शैलेश यादव है और यह वर्तमान में रायबरेली जिले के एसपी आफिस में मॉनिटरिंग सेल में तैनात है। इसके पहले रायबरेली के ही गदागंज थाने में तैनात रह चुके हैं।गदागंज थाने में तैनाती के दौरान दारोगा शैलेश यादव को एक बेसहारा लावारिस दिव्यांग महिला राजेश्वरी मिली थीं। जिसके पति व बेटे की एक साल पहले हादसे में मौत हो गई थी।

https://www.youtube.com/watch?v=d_ahequ7A6A

अपने पैसों से महिला को खुलवाई परचून की दुकान

पीड़िता न तो बोल पाती है न ही ठीक से चल पाती है। ऐसे में इस बेसहारा वृद्ध महिला की हालत को देखते हुए दारोगा शैलेश ने पीड़िता के लिए एक परचून की दुकान अपनी तनख्वाह से खुलवा कर रोजगार देने का काम किया है। दरोगा जी के इस काम से पूरे क्षेत्र में पुलिस के प्रति लोगो का रवैया बदल गया है और दरोगा की लोग खूब सराहना कर रहे है।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More