राहुल गांधी के मंदिर प्रेम पर ओवैसी को ऐतराज

0 141

एआईएमआईएम के नेता और लोकसभा सांसद औवेसी  ने राहुल गांधी के गुजरात चुनाव प्रचार के दौरान मंदिर-मंदिर जाने पर बड़ा हमला किया है। ओवैसी ने कहा कि राहुल गांधी गुजरात में प्रचार के दौरान मस्जिद या दरगाह क्यों नहीं गए? ओवैसी ने हैदराबाद में एक रैली के दौरान कहा कि हिंदुस्तान में सेक्युलरिज्म से सबसे ज्यादा नुकसान मुसलमानों को उठाना पड़ा है।

ALSO READ : परेड से पश्चिम बंगाल की झांकी हटाना राज्य का अपमान: ममता बनर्जी

ओवैसी ने कहा कि बीजेपी और कांग्रेस मिलकर मुसलमानों को सियासत से बाहर रखने की साजिश कर रही है। ओवैसी ने कहा कि देश की 14 प्रतिशत आबादी को देश की राजनीति में प्रतिनिधित्व नहीं मिल पा रहा है। ओवैसी ने कहा कि लोकसभा में केवल 23 मुस्लिम सांसद है। उन्होंने कहा कि यूपी से लोकसभा की 80 सीटें हैं, एक भी मुस्लिम सांसद नहीं है। ओवैसी ने कहा कि नेता लोग भगवा कपड़े पहनकर मंदिर-मंदिर दर्शन के लिए जाते हैं।

हरा रंग पहनकर मस्जिद और दरगाह में जाऊंगा

आप करें तो कुछ नहीं, जब हम हरा रंग पहने तो आपको दिक्कत होती है. ओवैसी ने कहा कि जब हम हरा रंग पहनेंगे तो पूरा हरा करेंगे, इंशा अल्लाह, उन्होंने कहा कि,  ”हमारे हरे रंग के आगे कोई और रंग नहीं टिकेगा, ना मोदी का रंग ना कांग्रेस का और किसी का रंग नहीं खाली हमारा रंग रहेगा…हरा, हरा, हरा….” ओवैसी ने कहा कि अगले चुनाव में मैं हरा रंग पहनकर मस्जिद और दरगाह में जाऊंगा।

also read : दुधमुंही बच्ची को पीठ पर लादकर सड़कें बुहारती थी ये मां

इसके पहले गुजरात चुनाव के नतीजों पर ओवैसी ने कहा था कि, ‘वोटर्स को आकर्षित करने के लिए नरेंद्र मोदी से लेकर राहुल गांधी एक मंदिर से दूसरे मंदिर जाते रहे। लेकिन ‘बीजेपी को आप बीजेपी बनकर नहीं हरा सकते हैं। आपको खुद में और बीजेपी में अंतर दिखाना होगा।’उन्होंने राहुल गांधी के गुजरात चुनाव प्रचार पर निशाना साधते हुए कहा था कि, ‘कांग्रेस के पास बीजेपी को हराने का सुनहरा मौका था, लेकिन वो इसमें सफल नहीं हुए।’ ओवैसी ने इस ओर भी ध्यान आकर्षित किया कि जीएसटी के कड़े विरोध के बावजूद व्यापारियों का हब माने जाने वाले सूरत में बीजेपी की ही जीत हुई।

(साभार- जी न्यूज)

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)

 

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More