शिवपुराण में लिखे हैं मौत के ये संकेत, मृत्यु का समय भी बताया

शिवपुराण में लिखे हैं मौत के ये संकेत, मृत्यु का समय भी बताया

0 421

भगवान शिव को महाकाल भी कहा जाता है यानि मृत्यु भी जिसके अधीन है। देवों के देव महादेव को कालों का काल भी कहते है। वैसे तो आदिदेव का उल्लेख कई धार्मिक गंथों और पुराणों में किया गया है।

लेकिन इनमें से सबसे प्रचलित शिव पुराण है। शिव पुराण में महादेव ने माता पार्वती को मृत्यु से संबंधित कई संकेत बताए हैं।

आइए जानें कौन-कौन से हैं संकेत-

शिव पुराण के मुताबिक, जिस व्यक्ति को अचानक नीले रंग की मक्खियां घेर लें, तो ये मृत्यु का संकेत है।

भगवान शिव ने बताया है कि जिसके सिर के ऊपर कौआ और गिद्ध और कबूतर आकर बैठे या घेर ले तो यह आयु कम होने का संकेत है।

शिव पुराण के अनुसार, अगर किसी को ध्रुव तारा या सूर्य मंडल का कोई भी तारा दिखाई न दे, रात को इंद्रधनुष और दोपहर में उल्कापात दिखाई दे तो ये मृत्यु का संकेत है।

इसके अलावा अगर बायां हाथ एक हफ्ते तक लगातार फड़फड़ाता है, तो ये इस बात का संकेत है कि मौत नजदीक है।

शिव पुराण के अनुसार, जिनकी मुंह, नाक, कान और जीभ ठीक से काम नहीं करते हैं, ऐसे लोगों की मौत कुछ महीने के भीतर हो सकती है।

प्रचलित शिव पुराण के अनुसार, जिस व्यक्ति को जल, तेल, घी और शीशे में अपनी परछाई न दिखाई दे, उस व्यक्ति की मृत्यु कभी भी हो सकती है।

शिव पुराण के अनुसार, अगर व्यक्ति का पूरा शरीर सफेद और पीला पड़ जाए या शरीर पर लाल निशान दिखाई दे, तो ऐसे व्यक्ति की मृत्यु करीब हो सकती है।

यह भी पढ़ें: प्रदोष व्रत से भगवान शिवजी होते हैं प्रसन्न, देते हैं सुख-समृद्धि, खुशहाली का वरदान

यह भी पढ़ें: राशिफल में जानें शिव जी को प्रसन्न करने के उपाय, मिलेगी सुख-समृद्धि

-Adv-

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप हेलो एप्प इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

 

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More