मोदी सरकार के 3 बड़े फैसले: कर्मचारी से लेकर मजदूरों तक के लिए बड़ी खुशखबरी

0 573

त्योहारों का सीजन शुरू हो चुका है. इस अवसर पर मोदी सरकार ने बुधवार को 3 बड़े फैसले किये हैं. जोकि सरकारी कर्मचारियों से लेकर गरीबों और मजदूरों के लिए बड़ी खुशखबरी वाले हैं. दरअसल, मोदी सरकार ने सरकारी कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में इजाफा करने और गरीबों को मुफ्त अनाज देने की प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना को 3 महीने तक बढ़ाने का ऐलान किया. इसके अलावा, आम लोगों की रेल यात्रा को सुखमय बनाने के लिए 10 हजार करोड़ रुपये की लागत से नई दिल्ली, अहमदाबाद और सीएसएमटी-मुंबई रेल स्टेशनों के पुनर्विकास को मंत्रिमंडल की मंजूरी दी.

पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक के बाद सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने बताया कि केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशनधारियों के लिए 4 प्रतिशत की दर से महंगाई भत्ता एवं राहत की किस्त जारी करने को अनुमति दी गई है. यह किस्त 1 जुलाई, 2022 से लागू होगी. इसके तहत केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशनधारियों के लिए 4 प्रतिशत की दर से महंगाई भत्ता और राहत की किस्त जारी की जाएगी, जिस पर सालाना सरकारी खजाने पर 12,852 करोड़ रूपये का बोझ पड़ेगा. इस निर्णय को लागू करने में जुलाई, 2022 से फरवरी, 2023 तक 8 महीने की अवधि में 8,588 करोड़ रूपये सरकारी खजाने से खर्च होंगे.

इसके साथ ही मोदी सरकार ने नई दिल्ली रेलवे स्टेशन, मुंबई की छत्रपति शिवाजी महाराज रेलवे स्टेशन और अहमदाबाद रेलवे स्टेशन के पुनर्विकास के लिए 10 हजार करोड़ रुपये जारी करने को मंजूरी दी है. रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने अभी कुल 199 रेलवे स्टेशन के पुनर्निमार्ण का कार्य भी चल रहा है, लेकिन अभी 50 लाख से ज़्यादा फुटफॉल वाले स्टेशनों पर अभी फोकस कर रहे हैं. नई दिल्ली रेलवे स्टेशन बसों, ऑटो और मेट्रो रेल सेवाओं के साथ ट्रेन सेवाओं को एकीकृत करेगा. वहीं, अहमदाबाद रेलवे स्टेशन का नया स्वरूप मोडेरा के सूर्य मंदिर से प्रेरित है. इसके साथ ही उन्होंने बताया कि सीएसएमटी के हेरिटेज भवन को छुआ नहीं जाएगा, लेकिन आसपास की इमारतों को फिर से विकसित किया जाएगा.

वैष्णव ने बताया कि रेलवे स्टेशनों में रूफ प्लाजा बनाने जाएंगे. प्लेटफार्म और पटरियों के ऊपर की जगह पर ये प्लाज़ा बनेंगे, जिसमें स्थानीय उत्पादों की दुकानें, फ़ूड कोर्ट, बच्चों के खेलने के लिए जगह जैसी सुविधाओं हो.

वहीं, मोदी सरकार ने बुधवार को गरीबों को मुफ्त अनाज देने की प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना की अवधि 3 महीने यानी दिसंबर, 2022 तक बढ़ा दी है. इस पर 44,700 करोड़ रुपये की लागत आएगी. अनुराग ठाकुर ने मंत्रिमंडल की बैठक के बाद कहा कि योजना शुक्रवार को समाप्त हो रही थी. इसे अक्टूबर से दिसंबर, 2022 तक के लिये बढ़ाया गया है. योजना के तहत 80 करोड़ गरीबों को 5 किलो गेहूं और चावल हर महीने दिया जाता है.

बता दें कोरोना वायरस महामारी की रोकथाम के लिये देशव्यापी ‘लॉकडाउन’ से प्रभावित गरीबों को राहत देने के लिये प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना अप्रैल, 2020 में लाई गई थी.

Also Read: PFI बैन: ब्रजेश पाठक बोले- एक-एक सदस्य की होगी धरपकड़, देश से होगा सफाया

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More