इस राज्य के लाखों किसानों को होगा फायदा, नहीं देना पड़ेगा बिजली बिल, बारिश से आहत अन्नदाताओं को राहत

0 241

वर्ष 2022 के सितंबर और अक्‍टूबर महीने में हुई भारी बारिश से जो किसान प्रभावित हुए थे, उनके लिए राहत भरी खबर है. दरअसल, महाराष्ट्र के लाखों किसानों को एकनाथ शिंदे की सरकार फायदा देने वाली है. इसमें कहा गया है कि जिन किसानों को बारिश की वजह से नुकसान हुआ है, उन्‍हें बिजली बिल जमा करने से छूट दी जाएगी.

महाराष्‍ट्र के डिप्टी सीएम और बिजली मंत्री देवेंद्र फडणवीश ने कहा ‘राज्‍य की बिजली इकाइयों से जुड़ी एजेंसियां ऐसे किसानों पर बिल जमा करने के लिए दबाव नहीं डालेंगी, जिन्‍हें बारिश की वजह से काफी नुकसान पहुंचा है. इन किसानों को दो महीने का बिजली बिल नहीं जमा करना पड़ेगा. इसका मतलब है कि महाराष्‍ट्र में भारी बारिश से प्रभावित लाखों किसान सितंबर और अक्‍टूबर महीने का बिजली बिल नहीं जमा करेंगी. हालांकि, उन्‍होंने यह भी कहा कि जो किसान बिजली बिल चुकाने में सक्षम होंगे, उन्‍हें इसका भुगतान करना होगा.’

देवेंद्र फडणवीश ने कहा ‘मैंने राज्‍य की बिजली वितरण कंपनी के अधिकारियों को आदेश दिया है कि किसानों को बिजली बिल जमा करने के लिए दबाव नहीं डाला जाए. खासकर ऐसे किसानों पर जिनकी फसल भारी बारिश की वजह से बर्बाद हो गई है. साथ ही अधिकारियों से कहा गया है कि किसानों से सिर्फ इसी सीजन का बिजली बिल ही वसूला जाए.’

Maharashtra Farmers Devendra Fadnavis

 

देवेंद्र फडणवीश ने कहा ‘जिन किसानों का बिजली बिल लंबे समय से बकाया है और उनके कनेक्‍शन काटे जाने की कार्रवाई चल रही, उन्‍हें सिर्फ इसी सीजन का बिल जमा करने से ही बड़ी राहत मिल जाएगी और उनका कनेक्‍शन नहीं काटा जाएगा. हालांकि, जो किसान अपने बिजली बिल का भुगतान करने में सक्षम हैं, उन्‍हें जरूर चुकाना चाहिए.’

बता दें महाराष्ट्र स्टेट इलेक्ट्रिसिटी डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड (MSEDCL) के अनुसार, सिर्फ पश्चिमी महाराष्‍ट्र के किसानों पर ही 8 हजार करोड़ से ज्‍यादा का बिजली बिल बकाया है. कंपनी ने कहा कि अगर किसान अपने बिल का भुगतान करते हैं तो उन्‍हें 50 प्रतिशत की छूट दी जाएगी और सिर्फ 4 हजार करोड़ का ही भुगतान करना होगा. हालांकि, देवेंद्र फडणवीश के नए आदेश के बाद किसानों को सिर्फ इसी सीजन का बिल भरना होगा और उनका कनेक्‍शन नहीं काटा जाएगा.

 

Also Read: ये हैं भारत के अजब-गजब मंदिर, कहीं शराब-सिगरेट का चढ़ावा तो कहीं बाटी-चोखा और चाउमीन का भोग

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More