भारत के खिलाफ खतरनाक साजिश में अफगानिस्तान को करना चाहते हैं शामिल चीन और पाकिस्तान

0 173

भारत को अपने महत्वाकांक्षी वन बेल्ट वन रोड परियोजना से जोड़ने में विफल रहा चीन अब अपनी आगे की योजना पर काम कर रहा है। चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने मंगलवार को कहा कि पाकिस्तान और पेइचिंग 57 अरब डॉलर की CPEC योजना से अफगानिस्तान को जोड़ना चाहता है। इतना ही नहीं चीन की तरफ से पाकिस्तान और अफगानिस्तान के असामान्य रिश्तों को भी सामान्य करने की कोशिश की जा रही है।

Also Read: कट्टर हिंदुत्व का नया चेहरा है शंभूलाल, जेल से लड़ सकता है चुनाव

पाकिस्तान और अफगानिस्तान के रिस्तो में खटास

पाकिस्तान और अफगानिस्तान के बीच 1947 से ही रिश्ते सामान्य नहीं हैं, लेकिन हाल के सालों में अफगानिस्तान लगातार यह आरोप लगाता रहा है कि पाकिस्तान US समर्थित काबुल सेना के खिलाफ तालिबानी आतंकियों को समर्थन दे रहा है, ताकि वह भारत की भूमिका को सीमित कर सके। इन आरोपों से दोनों देशों के रिश्तों में खटास आ गई है। हालांकि, पाकिस्तान ने इन आरोपों को खारिज कर कहा है कि वह एक स्थिर और शांतिपूर्ण अफगानिस्तान के पक्ष में है। चीन अब दोनों देशों के बीच वार्ता को बढ़ावा देने में मदद कर रहा है। चीन, पाकिस्तान और अफगानिस्तान के बीच पहली संयुक्त बैठक के बाद वांग ने कहा कि चीन को यह उम्मीद है कि CPEC से पूरे क्षेत्र को फायदा हो और यह विकास को गति देने का काम करे।

Also Read: जानिये, किस महिला के लिए ‘सैंटा’ बने राहुल..पूरी की विश

अफगानिस्तान इस योजना का बनेगा हिस्सा

वांग ने रिपोर्टर्स से कहा, ‘अफगानिस्तान को अपने नागरिकों के जीवनस्तर में सुधार करने की तत्काल जरूरत है।’ वांग ने उम्मीद जताई कि अफगानिस्तान इस योजना का हिस्सा बनेगा। वांग ने रिपोर्टर्स से कहा कि पाकिस्तान और अफगानिस्तान ने अपने तनावपूर्ण रिश्तों को सुधारने पर सहमति जताई है। वांग ने आगे कहा, ‘चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे’ के प्रॉजेक्ट्स का सफल कार्यान्वयन पड़ोसी देशों, जैसे अफगानिस्तान, ईरान और मध्य तथा पश्चिमी एशिया के साथ इसी तरह की परियोजनाओं के माध्यम से काम करने का एक मॉडल बनेगा। सूत्रों के मुताबिक यह परियोजना विवादित PoK से होकर गुजरती है, इसलिए भारत ने अपनी संप्रभुता का हवाला देते हुए इसमें शामिल होने से इनकार कर दिया था।

साभार: ( नवभारत टाइम्स )

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More