मक्का मस्जिद ब्लास्ट केस : ओवैसी बोले-NIA बहरा और अंधा तोता

0 183

मक्का मस्जिद ब्लास्ट मामले में NIA की विशेष अदालत द्वारा स्वामी असीमानंद समेत सभी 5 आरोपियों को सबूतों के अभाव में बरी करने के फैसले के बाद AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी(Asaduddin Owaisi) ने NIA को बहरा और अंधा तोता करार देते हुए केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोला है। कांग्रेस ने भी जांच एजेंसी पर ही सवाल उठाए। वहीं, बीजेपी नेता सुब्रमण्यन स्वामी ने मामले में भगवा आतंकवाद शब्द प्रयोग करने के लिए पूर्व गृह मंत्री पी चिदंबरम पर केस दर्ज करने की मांग की है। डिसिजन के बाद NIA ने कहा कि फैसला पढ़ने के बाद आगे की कार्रवाई तय की जाएगी।

ओवैसी बोले-NIA बहरा और अंधा तोता

फैसले पर ट्वीट करते हुए ओवैसी(Asaduddin Owaisi) ने कहा कि NIA ने मामले की सही पैरवी नहीं की। उन्होंने कहा, ‘जून 2014 के बाद मक्का मस्जिद ब्लास्ट केस मामले में अधिकतर गवाह अपने बयान से पलट गए। NIA ने केस की पैरवी उम्मीद के मुताबिक नहीं की या फिर ‘राजनीतिक मास्टर’ द्वारा उन्हें ऐसा करने नहीं दिया गया। आपराधिक मामले में जबतक ऐसी पक्षपाती चीजें होती रहेंगी तबतक न्याय नहीं मिलेगा।’

ओवैसी यहीं नहीं रुके और NIA को बहरा और अंधा तोता तक बता डाला। उन्होंने कहा, ‘न्याय नहीं हुआ है। NIA और मोदी सरकार ने आरोपियों को मिली बेल के खिलाफ भी अपील नहीं की। यह पूरी तरह से पक्षपाती जांच थी। इससे आतंक के खिलाफ हमारी लड़ाई कमजोर हुई है।’

Also Read : मक्का ब्लास्ट केस : स्वामी असीमानंद समेत सभी आरोपी बरी

ओवैसी ने कहा, ‘NIA एक बहरा और अंधा तोता है। एजेंसी ने आरोपियों के बेल के खिलाफ अपील नहीं की। गवाह अपने बयान से पलट गए। यह पीड़ितों के लिए नुकसान की बात रही। आज के फैसले के बाद आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई कमजोर हुई है।’

हिंदू टेरर शब्द के लिए चिदंबरम पर दर्ज हो केस : स्वामी

खबरों के मुताबिक, स्वामी ने  कहा कि इस मामले में चिदंबरम पर मामला दर्ज करना चाहिए। स्वामी ने कहा कि हिंदू टेरर थिअरी के लिए पूर्व गृह मंत्री पर केस होना चाहिए। उन्होंने कहा कि हिंदू टेरर शब्द के जरिए हिंदुओं पर सवाल उठाए। स्वामी ने कहा, ‘इसके पीछे बड़ी साजिश थी। इस मामले में शामिल लोगों को सजा मिलनी चाहिए।’ उन्होंने कहा कि हिंदू टेरर शब्द का प्रयोग कर वे RSS को निशाना बनाना चाहते थे और उसे बैन करना चाहते थे।

भगवा आतंकवाद पर चिदंबरम ने क्या कहा था

पूर्व गृह मंत्री पी चिदंबरम ने अगस्त 2010 में पुलिस अधिकारियों के एक सम्मेलन के दौरान कहा था,’देश के कई बम धमाकों के पीछे भगवा आतंकवाद का हाथ है। भगवा आतंकवाद देश के लिए नई चुनौती बनकर उभर रहा है।’ चिदंबरम के इस बयान पर उस समय विपक्ष में रही बीजेपी-शिवसेना ने संसद में भी हंगामा किया था। तब यूपीए चीफ सोनिया गांधी के करीबी महासचिव जनार्दन द्विवेदी ने चिदंबरम को जुबान संभालकर बोलने की नसीहत देते हुए कहा था कि आतंक का भगवा या हरा रंग नहीं होता सिर्फ काला रंग होता है।

हालांकि इसके बाद चिदंबरम ने कहा था कि भगवा आतंकवाद पर किसी का पेटेंट नहीं है। वह इसके जरिए जो संदेश देना चाहते हैं वह देश भर में चला गया है। उन्होंने तब दावा किया था कि देश के कुछ बम धमाकों के पीछे कट्टरपंथी दक्षिणपंथियों का हाथ है।

कांग्रेस ने NIA जांच को बताया पक्षपाती

कांग्रेस ने NIA की जांच को पक्षपाती बताया। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि सभी जांच एजेंसी केंद्र सरकार की कठपुतली बन गई है। इस मामले की जांच कोर्ट की निगरानी में हो। उन्होंने कहा कि NIA बीजेपी सरकार के अंदर काम करती है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद ने कहा कि वह ट्रायल कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हैं। यहां आगे फिर से अपील की जा सकती है। इस मामले में दर्जनों गवाह अपने बयान से मुकर गए। इस पर सवाल तो खड़े होते ही हैं। इसकी जांच होनी चाहिए। ओवैसी का सवाल पर चिंता तो पैदा करता ही है।

18 मई 2007 को हुआ था ब्लास्ट

गौरतलब है कि 18 मई 2007 को हुए इस ब्लास्ट में 9 मारे गए थे जबकि 58 घायल हुए थे। बाद में प्रदर्शनकारियों पर हुई पुलिस फायरिंग में भी कुछ लोग मारे गए थे। आपको बता दें कि एनआईए मामलों की चतुर्थ अतिरिक्त मेट्रोपोलिटन सत्र सह विशेष अदालत ने केस की सुनवाई पूरी कर ली थी। आपको बता दें कि इस मामले में 10 आरोपियों में से आठ लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की गई थी। कोर्ट ने अपने फैसले में सभी पांच आरोपी देवेंद्र गुप्ता, लोकेश शर्मा, स्वामी असीमानंद उर्फ नबा कुमार सरकार, भारत मोहनलाल रत्नेश्वर उर्फ भारत भाई और राजेंद्र चौधरी को कोर्ट ने बरी करने का फैसला सुनाया। इन सभी को मक्का मस्जिद विस्फोट मामले में गिरफ्तार किया गया था और उनपर ट्रायल चला था।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More