भारत के इन स्थानों पर स्थित हैं भगवान शिव के पवित्र 12 ज्योतिर्लिंग, दर्शन के पहले जानिए ये बातें

0 86

धार्मिक मान्यताओं और पवित्र मंदिरों के देश भारत में कई सारे प्राचीन और पवित्र मंदिर हैं. इनमें सबसे ज्यादा भगवान शिव के मंदिर हैं. हर साल लाखों की संख्या में शिव भक्त भगवान शिव के मंदिरों और शिवालयों में आते हैं. इन्हीं प्रसिद्ध शिवालयों में भगवान शिव के पवित्र 12 ज्योतिर्लिंग भी हैं. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में भगवान शिव ज्योति के रूप में स्वयं विराजमान हैं. बता दें ये भगवान शिव के पवित्र 12 ज्योतिर्लिंग भारत के भिन्न-भिन्न राज्यों में स्थित हैं.

अगर, आप इन ज्योतिर्लिंगों के दर्शन करना चाहते हैं तो आपको इनका स्थान और नाम मालूम होना चाहिए, जोकि हम आपको बताने वाले हैं.

1- सोमनाथ ज्योतिर्लिंग (गुजरात)

Somnath Temple : शिव का पहला ज्योतिर्लिंग जहां दर्शन मात्र से दूर होते हैं  दोष और पूरी होती हैं मनोकामनाएं | TV9 Bharatvarsh

 

गुजरात के सौराष्ट्र क्षेत्र में स्थित सोमनाथ ज्योतिर्लिंग को पृथ्वी का पहला ज्योतिर्लिंग माना जाता है. यहां पर देवताओं द्वारा बनवाया गया एक पवित्र कुंड भी है, जिसे सोमकुण्ड या पापनाशक-तीर्थ कहते हैं.

2- मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग (आंध्र प्रदेश)

Mallikarjuna Jyotirlinga Temple History, Photos, Temple Timing | Shri  Mathura Ji

मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग आंध्र प्रदेश में कृष्णा नदी के तट पर श्रीशैल नाम के पर्वत पर स्थित है.

3- महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग (मध्य प्रदेश)

महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग - Mahakaleshwar Jyotirlinga, Ujjain

मध्य प्रदेश स्थित के उज्जैन में महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग स्थित है. ये एकमात्र दक्षिणमुखी ज्योतिर्लिंग है. यहां प्रतिदिन होने वाली भस्मारती विश्व भर में प्रसिद्ध है.

4- ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग (मध्य प्रदेश)

ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंगः इसके निर्माण का रहस्य नहीं जानते होंगे आप - omkareshwar  jyotirlinga katha in hindi

मध्य प्रदेश के मालवा क्षेत्र में शिव का यह पावन धाम स्थित है. इंदौर शहर के पास जिस स्थान पर यह ज्योतिर्लिंग है, उस स्थान पर नर्मदा नदी बहती है और पहाड़ी के चारों ओर नदी बहने से यहां ॐ का आकार बनता है.

5- केदारनाथ ज्योतिर्लिंग (उत्तराखंड)

सर्दियों में 6 महीने बंद रहता है ये मंदिर, पांडवों ने की थी इस ज्योतिर्लिंग  की स्थापना | mahashivratri: kedarnath jyotirling was established by  pandavs, this temple is closed for 6 months

केदारनाथ स्थित ज्योतिर्लिंग उत्तराखंड में हिमालय की केदार नामक चोटी पर स्थित है. बाबा केदारनाथ का मंदिर बद्रीनाथ के मार्ग में स्थित है. केदारनाथ समुद्र तल से 3584 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है.

6- भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग (महाराष्ट्र)

Bhimashankar Jyotirlinga: जहां शिव ने किया था कुंभकर्ण के बेटे का वध

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र के पूणे जिले में सह्याद्रि नामक पर्वत पर स्थित है.

7- बाबा विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग (उत्तर प्रदेश)

Special arrangements made in Kashi Vishwanath for Mahashivratri |  महाशिवरात्रि को लेकर काशी विश्वनाथ में प्रशासन ने की खास व्यवस्था | Hindi  News, खबरें काम की

बाबा विश्वनाथ का यह ज्योतिर्लिंग उत्तर प्रदेश की धार्मिक राजधानी माने जाने वाली वाराणसी शहर में स्थित है. बाबा विश्वनाथ को काशी का कोतवाल भी कहा जाता है.

8- त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग (महाराष्ट्र)

Trimbakeshwar Jyotirlinga Temple, Photo, Location | Shri Mathura Ji

त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र के नासिक जिले में स्थित है. त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग के निकट ब्रह्मागिरि नाम का पर्वत है। इसी पर्वत से गोदावरी नदी शुरू होती है.

9- वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग (झारखंड)

मानस अमृत - द्वादस ज्योतिर्लिंगों में से एक बैजनाथ धाम ज्योतिर्लिंग की कथा।  श्री वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग का मन्दिर जिस स्थान पर अवस्थित है ...

 

वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग झारखंड प्रांत के संथाल परगना में जसीडीह रेलवे स्टेशन के करीब स्थित है. धार्मिक पुराणों में शिव के इस पावन धाम को चिताभूमि कहा गया है.

10- नागेश्वर ज्योतिर्लिंग (गुजरात)

Kundli Tv- नागेश्वर ज्योतिर्लिंग: यहां जानें मंदिर का रहस्य और पौराणिक कथा  - nageshwar jyotirlinga

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग गुजरात के बड़ौदा क्षेत्र में गोमती द्वारका के करीब स्थित है. धार्मिक पुराणों में भगवान शिव को नागों का देवता बताया गया है और नागेश्वर का अर्थ होता है नागों का ईश्वर. द्वारका पुरी से नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की दूरी 17 मील की है.

11- रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग (तमिलनाडु)

Know All About Rameshwaram Jyotirling - शत्रुओं पर विजय दिलाती है रामेश्वरम  ज्योतिर्लिंग की पूजा, श्री राम को भी मिला था महादेव से आशीर्वाद - Amar  Ujala Hindi News Live

भगवान शिव का यह ग्यारहवां ज्योतिर्लिंग तमिलनाडु के रामनाथम नामक स्थान में स्थित है. रामेश्वरतीर्थ को ही सेतुबंध तीर्थ भी कहा जाता है. मान्यता है कि इस ज्योतिर्लिंग की स्थापना स्वयं भगवान श्रीराम ने की थी. भगवान श्री राम द्वारा स्थापित किए जाने के कारण इस ज्योतिर्लिंग को भगवान राम का नाम रामेश्वरम दिया गया है.

12- घुश्मेश्वर ज्योतिर्लिंग (महाराष्ट्र)

Grishneshwar mahadev mandir is last jyotirling of mahadev | यहां स्थापित है  भगवान शिव का अंतिम ज्योतिर्लिंग, संतान प्राप्ति की इच्छा जल्द होती है पूरी  | Patrika News

घुश्मेश्वर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र के संभाजीनगर के समीप दौलताबाद के पास स्थित है. भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से यह अंतिम ज्योतिर्लिंग है. इस स्थान को ‘शिवालय’ भी कहा जाता है.

 

 

 

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More