भड़का किसान आंदोलन : 10 हजार से ज्यादा किसानों ने घेरा SDM दफ्तर, DSP समेत 150 जवानों को बनाया बंधक

0 696

पानी के लिए आंदोलन कर रहे किसान अचानक उग्र हो गए और डेढ़ सौ पुलिस के जवानों को बंधक बना लिया। दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर चल रहे किसानों के आंदोलन के विपरीत यह आंदोलन राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले में हो रहा है।

यहां किसान बीते कई दिनों से खेतों में सिंचाई के लिए पानी दिए जाने की व्यवस्था नियमित किए जाने की मांग कर रहे थे। इस पर उन्होंने बीते शनिवार सरकार को धमकी देते हुए कहा था कि वे प्रशासनिक व्यवस्थाएं ठप करने को मजबूर होंगे।

उच्च अधिकारियों को बनाया बंधक-

इसके बाद किसानों ने बीती देर रात डीएसपी समेत करीब डेढ़ सौ पुलिस के जवानों को बंधक बना लिया। उन्हें सुबह भी बाहर नहीं आने दिया गया। तनाव के बीच भारी पुलिस फोर्स घड़साना में तैनात की गई है।

किसानों का कहना है कि पानी मिलने तक एसडीएम ऑफिस में कोई अंदर या बाहर आ-जा नहीं सकेगा। बंधक बनाए गए लोगों में डीएसपी जयदेव सिहाग और पुलिस का एक अन्य उच्च अधिकारी शामिल हैं।

पुलिस जवान हुआ घायल-

शनिवार को जब पुलिस एसडीएम दफ्तर की तरफ बढ़ते किसानों को रोक रही थी। तब किसानों ने बैरिकेडिंग फेंक दिए। एक बैरिकेड पुलिस जवान के सिर पर भी गिरा, उसे ज्यादा चोट नहीं आई।

उधर, भाजपा भी सैकड़ों किसानों के साथ इसी मांग को लेकर घड़साना में प्रदर्शन व धरना कर रही है।

ये है किसानों की डिमांड-

ये वे किसान हैं, जो खेत छोड़कर सिंचाई के लिए पानी की डिमांड कर रहे हैं। किसानों को डर है कि कुछ दिन में उन्हें पानी नहीं दिया गया तो उनकी हजारों एकड़ फसल बर्बाद हो जाएगी।

अब यहां 10 हजार से ज्यादा की तादाद में किसान जमा हो चुके हैं और यह संख्या लगातार बढ़ रही है। किसानों ने लंबे आंदोलन की रणनीति के तहत लंगर की व्यवस्था भी कर ली है।

यह भी पढ़ें: कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का भारत बंद, कहीं ट्रेनें थमीं तो कहीं लगा लंब जाम…

यह भी पढ़ें: 800 रुपए किलो भिंडी : एक किसान ने उगाई अनोखी भिंडी, जानिए क्यों हैं इतनी महंगी

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप हेलो एप्प इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More