कोविड-19 लॉकडाउन : उत्तराखंड के गांवों में एम्बुलेंस के जरिए उपचार

0 221

पौड़ी: कोरोनावायरस के प्रकोप से बचाने के लिए इन दिनों देश में चल रहे लॉकडाउन के कारण ओपीडी सेवा बाधित है। ऐसे में मरीजों को इलाज न मिलने पर उत्तराखंड के पौड़ी जिले में गांव-गांव एम्बुलेंस के माध्यम से क्लीनिक चला कर लोगों को स्वास्थ्य सेवाएं दी जा रही हैं।

यह भी पढ़ें : झारखंड : कोरोना को लेकर शहर से ज्यादा गांव में जागरूकता

सरकार ने कोरोनावायरस के संक्रमण के कारण अस्पतालों में ओपीडी सेवाएं बाधित होने के कारण यह कदम उठाया गया है। जिले के प्रभारी व वन मंत्री हरक सिंह रावत ने विशेष बातचीत में कहा, “पौड़ी जिले में ज्यादातर पहाड़ी गांव हैं। यहां पर लॉकडाउन के कारण वाहन नहीं चल पा रहे हैं। ऐसे में यहां पर छोटी-मोटी बीमारियों में लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इसे देखते हुए हमने एम्बुलेंस में ही क्लीनिक चलाने के निर्देश दिए हैं। पौड़ी जिले के गांव-गांव में लोगों को सुविधाएं मिलेंगी।”

उन्होंने कहा, “ब्लॉकों से अस्पतालों की दूरी 40-50 किलोमीटर है। पहाड़ों के लोग साइकिल से कम चलते हैं। ओपीडी सेवाएं बंद होंने से उन्हें अस्पताल तक पहुंचने में परेशानी हो रही है। इसीलिए 15 ब्लॉकों वाले इस जिले में यह सेवा शुरू कर दी गई है।”

यह भी पढ़ें : एयर इंडिया ने 4 देशों से चार्टर उड़ान समझौते किए

प्रभारी मंत्री ने बताया, “एम्बुलेंस को क्लीनिक की तरह इस्तेमाल करने से लोगों को कम से कम छोटी-छोटी बीमारियों से निजात मिल जाएगी। इस दौरान कोई भी गंभीर मरीज होगा, तो उसे एम्बुलेंस के माध्यम से अस्पताल तक भी पहुंचाया जाएगा। अगर इस दौरान उसे छोटे अस्पताल में इलाज नहीं मिला तो बड़े अस्पताल में भेज दिया जाएगा। इस दौरान गाड़ियों में आने वाला व्यय आपदा मद के माध्यम से लिया जाएगा।”

उन्होंने बताया कि फिलाहाल एम्बुलेंस में एक डॉक्टर और फार्मासिस्ट अपने उपकरण के साथ मौजूद रहेगा। इस दौरान जीवन रक्षक दवाइयां भी उपलब्ध रहेंगी। जिससे लोगों को प्राथमिक स्वास्थ्य की सुविधा मिल सकेगी और उनकी परेशानी कम होगी।”

यह भी पढ़ें : कोरोना संदिग्ध तबलीगियों की तलाश में छापे, साद को पुलिस का नोटिस, कई हिरासत में लिए

मंत्री ने बताया, “एम्बुलेंस क्लीनिक संचालन की सारी व्यवस्था बीडीओ (खंड विकास अधिकारी) के देखरेख में की जाएगी। खंड विकास अधिकारी इसकी देखरेख करेंगे। इस दौरान कोई समस्या आएगी तो उसे भी वह हल करेंगे। क्योंकि सीएमओ इस दौरान कोरोना जैसी महामारी की व्यवस्था को देख रहे हैं।”

उन्होंने बताया, “पौड़ी जिले में अभी तक बाहर से आने वाले 11 हजार 118 लोगों का पता लगाया गया है। उन्हें क्वारंटाइन कराया जा रहा है। इसके लिए सभी बीडीओ, ग्राम पंचायत, विकास अधिकारी से लेकर ग्राम प्रधानों को भी जिम्मेदारी सौंपी गई है। इस दौरान जिले की अवाश्यक सेवाओं को बहाल रखा जाएगा।”

यह भी पढ़ें : भाजपा नेता ने कहा- कालाधन से चल रहा तबलीगी जमात, मुखिया की संपत्ति जब्त करे सरकार

पौड़ी जिले के सीएमओ डॉ़ मनोज बहुखण्डी ने कहा, “एम्बुलेंस में फिलाहाल एक डाक्टर ही रहेगा। इस दौरान बुखार, खांसी, जुकाम जैसे बिमारियों का इलाज हो सकेगा। इन बीमारियों से संबधित दवाएं भी मौजूद रहेंगी। हमारे जिले में कुल 108 की सेवाओं और प्राइवेट मिलाकर 21 – 22 एम्बुलेंस है। सभी को एक बार घुमा दिया जाएगा। इस दौरान लोगों को देखकर उन्हें जो संभव होगा वह इलाज दिया जाएगा। क्योंकि हमारा पूरा महकमा इन दिनों कोरोना को लेकर बहुत ज्यादा सक्रिय है।”

-Adv-

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More