देश में पहली बार महिलाओं की आबादी बढ़ी, प्रजनन दर में भी दर्ज की गई गिरावट

आजादी के बाद ये भी पहली बार है जब महिलाओं की आबादी पुरुषों की अपेक्षा  1 हजार से ऊपर पहुंची है। यही नहीं, देश में प्रजनन दर में भी कमी आई है।

0 246

आजादी के बाद ये भी पहली बार है जब महिलाओं की आबादी पुरुषों की अपेक्षा  1 हजार से ऊपर पहुंची है। यही नहीं, देश में प्रजनन दर में भी कमी आई है। है। नेशनल फैमिली एंड हेल्थ सर्वे (National Family and Health Survey) के अनुसार, अब हर 1,000 पुरुषों पर 1,020 महिलाएं हैं। इससे पहले 2015-16 में हुए NFHS-4 में ये आंकड़ा हर 1,000 पुरुषों पर 991 महिलाओं का था।

गांव में बढ़ा सेक्स रेशियो:

नेशनल फैमिली एंड हेल्थ सर्वे-5 के अनुसार शहरों की तुलना में गांवों में सेक्स रेशियो में बेहतर सुधार हुआ है। जहां शहरों में हर 1,000 पुरुषों पर 985 महिलाएं हैं वही गांवों में 1,037 महिलाएं हैं। NFHS-4 के आंकड़ों में ये भी यही बात सामने निकलकर आई थी। NFHS-4 के आंकड़ों के मुताबिक शहरों में प्रति 1,000 पुरुषों पर जहां 956 महिलाएं थीं वही गांवों में 1,009 महिलाएं थीं।

प्रजनन दर में भी कमी आई:

राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-5 के आंकड़ों से बढ़ती जनसंख्या को लेकर भी अच्छी खबर सामने आई है। NFHS-5 के दूसरे चरण के अनुसार, देश की कुल प्रजनन दर (TFR) या एक महिला द्वारा अपने जीवनकाल में बच्चों को जन्म देने की औसत 2 पर आ गई है। 2015-16 में ये 2।2 थी। जबकि कन्ट्रासेप्टिव प्रिवलेंस रेट भी 54 फीसदी से बढ़कर 67 फीसदी तक हो गई है।

23 राज्य जहां प्रति 1000 पुरुषों पर महिलाओं की आबादी 1,000 से ज्यादा:

देश में ऐसे राज्यों की संख्या 23 है जहां प्रति 1000 पुरुषों पर महिलाओं की आबादी 1,000 से ऊपर है। उत्तर प्रदेश में प्रति हजार पुरुषों पर 1017, मध्य प्रदेश में 970, बिहार में 1090, झारखंड में 1050, छत्तीसगढ़ में 1015, पंजाब में 938, हरियाणा में 926, दिल्ली में 913, राजस्थान में 1009, महाराष्ट्र में 966 महिलाएं हैं।

 

यह भी पढ़ें: कृषि कानून वापसी के प्रस्ताव को कैबिनेट की मंजूरी, संसद के आगामी सत्र में बिल लेकर आएगी सरकार

यह भी पढ़ें: Chunar Assembly: इस पटेल बाहुल्य सीट पर भाजपा का रहा है दबदबा, कभी नहीं जीत पाई BSP

(अन्य खबरों के लिए हमेंफेसबुकपर ज्वॉइन करें। आप हमेंट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप हेलो एप्प इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More