जिन्ना वाले बयान पर चौतरफा घिरे अखिलेश यादव, BJP-BSP के बाद ओवैसी ने भी घेरा; इतिहास पढ़ने की दी सलाह

0 347

पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना की तारीफ करने के बाद से समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव चौतरफा घिर गए हैं। इस मामले पर BJP-BSP के बाद अब एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी ने भी सपा नेता को घेरा।

असदुद्दीन ओवैसी ने समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव को इतिहास पढ़ने की सलाह दी है। उन्होंने यह सलाह मोहम्मद अली जिन्ना को भारत के स्वतंत्रता संग्राम के प्रतीक के रूप में गिनने की उनकी टिप्पणियों को लेकर दी है।

क्या कहा था अखिलेश ने ?

akhilesh_yadav

उत्तर प्रदेश के हरदोई में समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा, “सरदार पटेल, महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू और जिन्ना एक ही संस्थान में पढ़े और बैरिस्टर बने। वे बैरिस्टर बने और उन्होंने भारत की आजादी के लिए लड़ाई लड़ी। वे कभी किसी संघर्ष से पीछे नहीं हटे।”

भाजपा ने साधा निधाना

akhilesh yogi

अखिलेश यादव को एक सार्वजनिक रैली में उनकी टिप्पणियों को लेकर भाजपा ने उन पर निशाना साधा। भाजपा ने अखिलेश यादव पर चुनाव से पहले “मुस्लिम तुष्टीकरण” का आरोप लगाया। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसे “तालिबानी मानसिकता” कहा।

मायावती का आरोप- चुनावी माहौल खराब करने की हो रही कोशिश

auraiya road accident

अखिलेश ने महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू और सरदार वल्लभभाई पटेल के रूप में एक ही सांस में पाकिस्तान के संस्थापक जिन्ना का भी नाम ले लिया। इस पर बहुजन समाज पार्टी (BSP) सुप्रीमो मायावतनी अखिलेश यादव पर बीजेपी के साथ साठगांठ का आरोप लगा दिया।

उन्होंने कहा कि हरदोई में जिन्ना पर अखिलेश का बयान और उसे लपककर बीजेपी की प्रतिक्रिया दोनों पार्टियों की सोची समझी रणनीति का हिस्सा है। बीएसपी अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि यूपी के आगामी चुनाव में हिंदू-मुस्लिम के जरिए माहौल बिगाड़ने की कोशिश की जा रही है। मायावती का आरोप है कि बीजेपी और सपा के बीच अंदरूनी मिलीभगत चल रही है।

यह भी पढ़ें: UP Election 2022 : अखिलेश यादव का बड़ा ऐलान, नहीं लड़ेंगे विधानसभा चुनाव

यह भी पढ़ें: जिन्ना की तारीफ करने पर घिरे अखिलेश यादव, सीएम योगी ने जमकर ली क्लास

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप हेलो एप्प इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More