फ्रूट स्टार्टअप की युवाओं ने की शुरुआत, सबकी सेहत का रखेंगे ख्याल

0 522

इस वक्त दुनिया में सबसे ज्यादा चर्चा इम्यूनिटी की हो रही है। लंबे समय से कोरोना वायरस से लड़ते रहने के बाद हर किसी को एहसास हो गया है कि जिसकी इम्यूनिटी स्ट्रांग होगी वही सभी तरह के रोग से लड़ने में सक्षम होगा। इम्यूनिटी बेहतर होगी शुद्ध खाने और पीने से।

ऐसे में लोगों तक शुद्ध, सेहतमंद खाना और दूध पहुंचाने का जिम्मा लिया है बनारस के कुछ नौजवानों ने। इन्होंने एक स्टार्टअप शुरू किया है। www.envirfoods.in पर आप इनके उत्पाद ले सकते हैं। यहां शुद्ध और प्राकृतिक तत्वों से बने सामान उपलब्ध हैं। इन्हें अपने बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन भी मिल रहा है।

20 युवाओं की टीम कर रही काम-

वाराणसी के इन 20 युवाओं का उद्देश्य प्रकृति प्रदत्त फूड लोगों को उपलब्ध कराना है। उनका यह पूरा काम नो प्रॉफिट-नो लॉस कॉन्सेप्ट पर बेस्ड है। मुख्य रूप से फ्रूट सलाद, भाप पर पकी हुई सब्जियां, जूस, देशी गाय के दूध, A2 मिल्क और डेयरी प्रोडक्ट के साथ अंकुरित अनाजों के बॉक्स को ऑनलाइन उपलब्ध कराया जा रहा है।

स्टार्टअप के संस्थापक रमानंद तिवारी और अतुल पांडेय बताते हैं ​कि प्रकृति के साथ प्यार और स्नेह बनाए रखने के लिए बेहद शुद्ध उत्पाद घर—घर तक पहुंचाने का सं​कल्प लेते हुए इस स्टार्टअप की शुरुआत की गयी है। लोगों में स्वस्थ, जैविक, ताजा और प्राकृतिक भोजन की आदतों को विकसित करने के लिए शुरुआत में सात से भी अधिक सीजनल ताजे फलों के सलाद, अंकुरित अनाज और दाल, जूस और भाप पर पकाई गईं सात से भी अधिक हरी और ताजी सब्जियां उपलब्ध करायी जा रही हैं।

तत्काल ऑर्डर पर तुरंत तैयार कर सामान उपलब्ध कराया जा रहा है। इसे संरक्षित (प्रिजर्व्ड) नहीं किया जाता है। ना ही किसी भी तरह के प्रिजर्वेटिव का प्रयोग किया जाता है। डिलीवरी के लिए पर्यावरण के अनुकूल बॉक्स हैं। बॉक्स में निश्चित स्वास्थ्यवर्धक चीजें जैसे शहद, सूखे मेवे आदि भी हैं जो आपको हर बॉक्स में उपलब्ध होंगी।

शरीर को सेहतमंद बनाता है देसी गाय का दूध-

इस स्टार्टअप के संयोजक अतुल पांडेय ने बताया कि हमारा प्रारंभिक उद्देश्य स्वस्थ खान-पान की आदत को बढ़ावा देना है जिससे हम ऑर्गेनिक खेती की तरफ रुख़ कर सकें। बेहतर खान-पान के साथ शुद्ध और सेहतमंद दूध भी जरूरी है जो कि देसी गाय से मिलता है।

सामान्य तौर पर देसी गाय के दूध में आठ प्रकार के प्रोटीन, 21 प्रकार के एमीनो एसिड, छह प्रकार के विटामिन, 25 प्रकार के खनिज तत्व, आठ प्रकार के किण्वन, दो प्रकार की शर्करा, चार प्रकार के फास्फोरस यौगिक और 19 प्रकार के नाइट्रोजन होते हैं। विटामिन ए-1, केरोटिन डी-ई, टोकोकेराल, विटामिन बी-1, बी-2, रिवोफलेविन बी-3, बी-4 तथा विटामिन सी है।

हमारा उद्देश्य अपने देश की गायों को अलग महत्व के साथ प्रस्तुत करना है। इसलिए हम A2 मिल्क उपलब्ध करा रहे हैं। इस काम में प्रतिष्ठित साहित्यकार निलय उपाध्याय, अजीत कुमार सिंह, अजीत मिश्र, प्रवीण कुमार, विनय पांडेय, भानू प्रताप, शाश्वत, विपुल, वैभव, विभू, सुंदरम, राजू, सौम्या, अतुल, श्रीनिवास, गौरव, समीर, मयंक व सदस्यों का भऱपूर सहयोग मिल रहा है।

यह भी पढ़ें: कोरोना के दौर में इम्यूनिटी बढ़ाने में उपयोगी है आयुर्वेद

यह भी पढ़ें: कोरोना से ठीक होने के कितने दिन बाद लगवानी चाहिए वैक्सीन?

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप हेलो एप्प इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More