“ट्रेस, टेस्ट व ट्रीट” के मंत्र से जीतेंगे कोरोना से लड़ाई- योगी आदित्‍यनाथ

0 499

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को अपने एक दिवसीय वाराणसी दौरे के दौरान बीएचयू के एंफीथियेटर ग्राउंड में रक्षा मंत्रालय के डीआरडीओ द्वारा 750 बेड के बनाये गये कोविड अस्पताल का निरीक्षण करने के पश्चात सेंट्रल हॉल सभागार में वाराणसी मंडल के अधिकारियों से कोरोना महामारी से निपटने के लिए अब तक किए गए और आगे किए जा रहे तैयारियों की विस्तार से समीक्षा की.

यह भी पढ़ें : कोरोना: वैक्‍सीन वार में  ‘सीनोफार्म’ भी शामिल, डब्‍ल्‍यूएचओ ने दी मंजूरी

लगातार घट रहे हैं केस

उसके बाद मीडिया को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बताया कि कोरोना महामारी के विरुद्ध प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सेकंड बेब का मुकाबला पूरा देश कर रहा है. जो मंत्र कोरोना महामारी से लड़ने के लिए सभी राज्यों को “ट्रेस, टेस्ट व ट्रीट” का दिया गया है, उसको अपना कर उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रदेशवासियों को राहत काफी हद तक सफलता प्राप्त की है. उन्होंने बताया कि 30 मई को उत्तर प्रदेश में कुल एक्टिव केस 3,10,000 रहे. जो आज घटकर 2,33,000 हो गए हैं. यानी 8 दिन में कुल 77000 एक्टिव केस कम हुए हैं. प्रदेश में सर्वाधिक पॉजिटिव केस 24 अप्रैल को 38, 000 आए थे. जो भी धीरे-धीरे घट कर आज 23,000 पॉजिटिव केस आये हैं. प्रदेश में पॉजिटिविटी घटी है और रिकवरी दर बढ़ी है.

योगी आदित्यनाथ

सभी को टीका लगवाना है जरूरी

उन्होंने बताया कि वाराणसी मंडल में एक सप्ताह में 9285 एक्टिव केस आए हैं जिसमें वाराणसी जनपद में 4500 से अधिक है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पूरे देश में ऑक्सीजन आपूर्ति के लिए ऑक्सीजन एक्सप्रेस व इंडियन एयर फोर्स के विमान का इस्तेमाल ऑक्सीजन आपूर्ति में किया गया. टीकाकरण पर जोर देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि दो स्वदेशी वैक्सीन अभी फिलहाल लग रही है और तीसरी वैक्सीन के लिए भी सहमति मिल गई है. यूपी में 45 से अधिक उम्र के 1.37 करोड़ को वैक्सीन दी जा चुकी है जबकि 18 से अधिक उम्र वाले भी एक लाख से अधिक लोग टीका लगवा चुके है. उन्होंने बताया कि सभी को टिके के लिए आगे आना चाहिए. आसानी से टीकाकरण किया जा सके. इसके लिए 4500 अधिक केंद्र भी टीकाकरण के बनाए गए हैं.

यह भी पढ़ें : 11 साल बाद पर्यावरण में घटा CO2 का स्तर

ग्रामीण इलाकों में भी स्‍क्रीनिंग पर जोर

सीएम ने कहा कि पंचायत चुनाव के पश्चात गांव-गांव में संक्रमण न फैले.  इसके लिए निगरानी समितियों द्वारा घर-घर गहन स्क्रीनिंग करे तथा कोविड लक्षण वालों को मेडिसिन किट उपलब्ध करायें. उनके परिवार जनों की भी स्क्रीनिंग हो उनकी सूची बनाकर आरआरटी को उपलब्ध कराने को कहा जा रहा है. जिससे उनका एंटीजन टेस्ट टीम द्वारा किया जाये. यदि पाज़िटिव है तो तत्काल दवा प्रारम्भ कर दी जाय. जिससे मृत्यु दर कम हो. उन्होंने आरआरटी टीम को ट्रेनिंग देकर संख्या बढ़ाने पर भी जोर दिया. उन्होंने कहा कि गांव में पंचायत भवन, विद्यालय आदि को कोरेंटिन सेंटर बनाया जाए. प्रदेश स्तर के अनुसार हर जनपद स्तर पर टीम 9 की तर्ज पर अलग-अलग टीम को अलग- अलग प्रकार की जिम्मेदारी देने की कार्रवाई की जाय. बताया कि थर्ड वेब की तैयारी भी की जा रही है. बच्‍चों को इस वेब से बचाये रखने के लिए विशेष उपाय किये जा रहे हैं.

मीटिंग में मंत्री डॉ0 नीलकंठ तिवारी, मंत्री रविंद्र जायसवाल, एमएलसी अशोक धवन, विधायक सौरभ श्रीवास्तव, विधायक सुरेंद्र नारायण सिंह, एडीजी बृजभूषण, कमिश्नर दीपक अग्रवाल, डीआईजी एस के भगत, पुलिस कमिश्नर ए सतीश गणेश, डीएम कौशल राज शर्मा, डीआरडीओ के अधिकारी सहित अन्य विभागीय एवं स्वास्थ विभाग के अधिकारी प्रमुख रूप से उपस्थित रहे.

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप डेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More