सचिवालय में तैनात युवती से छेड़छाड़ करता दिखा अफसर, केस दर्ज होने के 12 दिन बाद हुई कार्रवाई

लखनऊ सचिवालय में तैनात महिला संविदाकर्मी से छेड़छाड़ करने वाले आरोपी अनु सचिव इच्छाराम यादव को पुलिस ने आखिरकार गिरफ्तार कर लिया है।

0 1,509

लखनऊ सचिवालय में तैनात महिला संविदाकर्मी से छेड़छाड़ करने वाले आरोपी अनु सचिव इच्छाराम यादव को पुलिस ने आखिरकार गिरफ्तार कर लिया है। दरअसल, कुछ दिन पहले महिला ने खुद ही वीडियो जारी कर अनु सचिव इच्छाराम यादव पर यौन शोषण का आरोप लगाया था। सोशल मीडिया पर जब वीडियो वायरल हुआ तो इसके बाद इस मामले ने तूल पकड़ा और 12 दिन पुलिस ने आरोपी को अरेस्ट कर लिया है।

बार-बार चेहरे और होंठ पर लगाता था हाथ:

वायरल वीडियो में दिख रहा है कि अनुसचिव इच्‍छाराम यादव युवती के साथ जबरदस्ती करता दिखाई दे रहा है। आरोपी बार-बार युवती के चेहरे, होठों और शरीर को हाथ लगा रहा है। युवती उसका हाथ हटाती है लेकिन फिर भी वह बार-बार मुस्कुराकर हाथ लगाता है। युवती का आरोप है कि अनुसचिव इच्‍छाराम यादव नौकरी से निकलवाने की धमकी देकर उसका जबरन यौन शोषण करता था।

12 दिन बाद हुई गिरफ्तारी:

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आरोपी इच्छाराम यादव से इस वीडियो को लेकर सवाल किए गए तो आरोपी ने कहा, “हां मैं वीडियो में हूं। आप को क्या लेना देना है।” 29 अक्टूबर को हुसैनगंज थाने में पीड़ित महिला ने आरोपी के खिलाफ शिकायत की थी। मगर, आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हुई थी। अब वीडियो वायरल होने के 12 दिन के बाद आरोपी को गिरफ्तार किया गया है।

प्रियंका गांधी ने योगी सरकार पर साधा निशाना:

इस मामले को लेकर प्रियंका गांधी ने सोशल मीडिया पर पोस्ट कर योगी सरकार पर निशाना साधा है। प्रियंका ने लिखा कि सचिवालय हो, सड़क हो या कोई स्थान यूपी में महिलाएं कहीं सुरक्षित नहीं। सरकार के महिला सुरक्षा के दावे की यही असलियत है।

 

यह भी पढ़ें: योगी सरकार का बड़ा फैसला! अब विवाहित बेटियों को भी मिल सकेगी अनुकंपा के आधार पर नौकरी

यह भी पढ़ें: Chunar Assembly: इस पटेल बाहुल्य सीट पर भाजपा का रहा है दबदबा, कभी नहीं जीत पाई BSP

(अन्य खबरों के लिए हमेंफेसबुकपर ज्वॉइन करें। आप हमेंट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप हेलो एप्प इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More