पीएम मोदी ने किया कृषि कानूनों की वापसी का ऐलान, कांग्रेस बोली- ‘टूट गया अभिमान

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरु पर्व और कार्तिक पूर्णिमा के खास अवसर पर राष्ट्र को संबोधित किया। इस दौरान पीएम ने  तीनों नए कृषि कानूनों को वापस लेने का ऐलान किया।

0 475

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरु पर्व और कार्तिक पूर्णिमा के खास अवसर पर राष्ट्र को संबोधित किया। इस दौरान पीएम ने  तीनों नए कृषि कानूनों को वापस लेने का ऐलान किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं आज देशवासियों से क्षमा मांगते हुए यह कहना चाहता हूं कि हमारी तपस्या में कोई कमी रह गई होगी। हम कुछ किसान भाइयों को समझा नहीं पाए। पीएम मोदी ने कहा, हमने कृषि कानूनों को वापस लेने का फैसला किया। कृषि कानूनों की वापसी के ऐलान के बाद कांग्रेस समेत तमाम विपक्षी पार्टियां अपनी जीत बतानें में जुट गई है।

कांग्रेस बोली- ‘टूट गया अभिमान’

प्रधानमंत्री मोदी द्वारा तीनों नए कृषि कानूनों की वापसी के ऐलान के बाद कांग्रेस ने इसे किसानों की जीत बताया। कांग्रेस ने ट्वीट कर कहा, ‘टूट गया अभिमान, जीत गया मेरे देश का किसान।’

सत्याग्रह से अहंकार का सर झुका दिया:

तीनों नए कृषि कानूनों की वापसी के ऐलान के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा ‘देश के अन्नदाता ने सत्याग्रह से अहंकार का सर झुका दिया। अन्याय के खिलाफ ये जीत मुबारक हो! जय हिंद, जय हिंद का किसान!’

किसानों की शहादत अमर रहेगी:

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, ‘आज प्रकाश दिवस के दिन कितनी बड़ी खुशखबरी मिली। तीनों कानून रद्द। 700 से ज्यादा किसान शहीद हो गए। उनकी शहादत अमर रहेगी। आने वाली पीढ़ियां याद रखेंगी कि किस तरह इस देश के किसानों ने अपनी जान की बाजी लगाकर किसानी और किसानों को बचाया था। मेरे देश के किसानों को मेरा नमन।’

यह किसानों की जीत है:

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ट्वीट कर कहा, ‘हर एक किसान को मेरा हार्दिक अभिनंदन, जिसने अथक संघर्ष किया और उस क्रूरता से विचलित नहीं हुए, जिसके साथ भाजपा ने आपके साथ व्यवहार किया। यह आपकी जीत है! इस लड़ाई में अपने प्रियजनों को खोने वाले सभी लोगों के प्रति मेरी गहरी संवेदना है।’

सैंकड़ों किसानों की मौत के दोषियों को सज़ा कब मिलेगी?

तीनों नए कृषि कानूनों की वापसी के ऐलान के बाद सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा, ‘अमीरों की भाजपा ने भूमिअधिग्रहण व काले क़ानूनों से ग़रीबों-किसानों को ठगना चाहा। कील लगाई, बाल खींचते कार्टून बनाए, जीप चढ़ाई लेकिन सपा की पूर्वांचल की विजय यात्रा के जन समर्थन से डरकर काले-क़ानून वापस ले ही लिए। भाजपा बताए सैंकड़ों किसानों की मौत के दोषियों को सज़ा कब मिलेगी।’

 

यह भी पढ़ें: Kanpur Cantonment Assembly: इस मुस्लिम बाहुल्य सीट पर क्या फिर काबिज होगी बीजेपी? 26 साल तक लगातार खिला था कमल

यह भी पढ़ें: Chunar Assembly: इस पटेल बाहुल्य सीट पर भाजपा का रहा है दबदबा, कभी नहीं जीत पाई BSP

(अन्य खबरों के लिए हमेंफेसबुकपर ज्वॉइन करें। आप हमेंट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप हेलो एप्प इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More