काशी में धधकती चिताओं के बीच घुँघरुओं की झंकार

काशी में चैत नवरात्री के सप्तमी की रात बाबा महाश्मशान नाथ का वार्षिक श्रृंगार समारोह आयोजित किया जाता है. इस दिन शहर की नगर वधुएं श्मशान घाट पर आरती हैं और नृत्य पेश करती हैं.

0 544

 

मोक्ष के तट काशी के मणिकर्निका घाट पर एक अनोखी महफ़िल सजी. एक तरफ चिताएं जल रही थीं तो दूसरी ओर घूँघरूओं की झंकार थी. मरघट में सजी महफ़िल रातभर चलती रही. समाज के हाशिये पर रहने वाली नगर वधुएं बाबा महाश्मशान नाथ की पहले आरती उतारती हैं. इसके बाद उन्हें नृयांजलि देती हैं.

यह भी पढ़ें : बनारस मे बेड को लेकर हाहाकार, स्टेडियम मे बनेगा अस्पताल

काशी मे नगर वधुएं पेश करती हैं नृत्याँजलि

दरअसल काशी में चैत नवरात्री के सप्तमी की रात बाबा महाश्मशान नाथ का वार्षिक श्रृंगार समारोह आयोजित किया जाता है. इस दिन शहर की नगर वधुएं श्मशान घाट पर आरती हैं और नृत्य पेश करती हैं. काशी की ये परम्परा सालों से चली आ रही है. नृत्याँजलि पेश करने के पीछे मान्यता है. नगर वधुएँ बाबा के दरबार में इस उम्मीद के साथ नृत्य करती हैं कि अगले जन्म नगर वधु से मुक्ति मिलेगी. बनारस के लोगों को इस समारोह से बेसब्री से इंतजार रहता है. लेकिन इस बार कोरोना की वजह से कार्यक्रम सिर्फ प्रतीकात्मक तौर पर आयोजित किया गया.

यह भी पढ़ें : भारत के मिल्कमैन और कहानी घर-घर के फेवरेट अमूल के बनने की

काशी
महाशमशान का श्रृंगार

सालों से क़ायम है परम्परा

कहते हैं काशी में मौत पर भी उत्सव मनाया जाता है. नगर वधुओं का नृत्य-संगीत का कार्यक्रम इस कहावत को सच साबित कर रहा था. कभी ना ठंडी पड़ने वाली मणिकर्निका घाट पर एक तरफ चिताएं धधक रही थी है तो दूसरी तरफ घुंघरू की झंकार सुनाई दे रही थी. आम लोगों के लिए यकीन कर पाना मुश्किल था.

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप डेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More