‘आल हालोस बाय द टावर’ है लंदन का सबसे पुराना चर्च, सन 675 में रखी गई थी नींव

आज हम ब्रिटेन के इतिहास की बात नहीं करेंगे बल्कि हम लंदन शहर के एक चर्च की बात करेंगे, जिसके बारे में लोंगो का मानना है कि वो पूरे लंदन का सबसे पुराना चर्च है।

0 240

लंदन: इतिहास की बात करें तो आज ब्रिटेन से अपने इतिहास को जोड़कर कई देश, धर्म और सम्प्रदाय गर्वान्वित महसूस करते हैं। एक समय था जब इस रियासत ने पूरी दुनिया में इस तरह से विस्तार किया था कि ब्रिटेन शासन में कभी सूरज नहीं डूबा। दूसरे विश्व युद्ध के बाद चीजे बदल गई और ब्रिटेन ने दुनिया भर में फैली अपनी छोटी बड़ी कॉलोनियों को आज़ादी दे दी। लेकिन आज हम ब्रिटेन के इतिहास की बात नहीं करेंगे बल्कि हम लंदन शहर के एक चर्च की बात करेंगे, जिसके बारे में लोंगो का मानना है कि वो पूरे लंदन का सबसे पुराना चर्च है।

हर एक कदम इतिहास का एक अध्याय:

लंदन शहर में हर एक कदम आपको इतिहास के किसी पन्ने पर जरूर खड़ा करेगा। ब्रिटेन की सरकार इस बात का खास धयान देती है की इतिहास से जुडी हर चीज़ जिसका ताल्लुक इंग्लैंड के छोटे से छोटे हिस्से से क्यों न हो, उसे संजो कर रखा जाता है। यही कारण है कि लंदन हो या पूरा इंग्लैंड हर एक कदम इतिहास का एक अध्याय है।

सबसे पुराने किले के पास सबसे पुराना चर्च

लंदन के सबसे पुराने किला ‘टावर ऑफ़ लंदन’ जो की शहर के मशहूर टावर ब्रिज के बगल में है। उसके पास में ही एक छोटा सा चर्च है, जिसका नाम है ‘आल हालोस बाय द टावर’। सन 675 में बने इस चर्च की बाहरी दीवारें तो नईं हैं, पर जब आप इसके अंदर जाएंगे वहां पर ऐसी कई सारी चीजे मिलेंगी जो इस बात को साबित कर देती हैं कि सचमुच शायद यह लंदन का सबसे पुराना चर्च है।

हिटलर के बम ने उजागर की सच्चाई

कहा जाता है कि हर चीज के पीछे कुछ अच्छा होना लिखा होता है, ठीक वैसा ही इस चर्च के साथ हुआ। ‘ग्रेट फायर ऑफ़ लंदन’ जिसने शहर के 2/3 हिस्से जो जला कर राख कर दिया था। इस दौरान लंदन शहर का सबसे बड़ा चर्च ‘संत पॉल्स’ भी जलकर खाक हो गया था, लेकिन वो भयंकर आग भी इस चर्च का कुछ नहीं बिगड़ पाई थी।

1940 में जब जर्मनी ने लंदन के ऊपर बम गिराए तो इस चर्च के बीचो बीच धमाका हुआ था। इस धमाके के बाद जब पुनः इस चर्च का निर्माण शुरू हुआ उस दौरान चर्च के निचे एक नए तहखाने की खोज हुई। सबसे बड़ी बात यह थी कि यह तहखाना रोमन समय में बनाया गया था। आल हालोस चर्च को लेकर हमेशा से यह दावा किया गया कि वह लंदन का सबसे पुराना चर्च है। इस बात की पुष्टि हिटलर के एक बम ने की थी।

पुराने चर्च के कई हिस्से युद्ध से बच गए और सावधानीपूर्वक बनाये गए। इसकी बाहरी दीवारें 15वीं सदी की हैं, जिसमें सैक्सन मेहराबदार द्वार मूल चर्च से बचा हुआ है। 15वीं और 16वीं शताब्दी के संतों की तीन उत्कृष्ट लकड़ी की मूर्तियां भी चर्च में देखी जा सकती हैं। साथ ही एक उत्कृष्ट बैपटिस्मल फ़ॉन्ट कवर भी देखा जा सकता है जिसे 1682 में ग्रिनलिंग गिबन्स द्वारा £ 12 के लिए उकेरा गया था, इसे बेहतरीन टुकड़ों में से एक माना जाता है।

शाही कनेक्शन

11वीं और 15वीं शताब्दी के बीच चर्च का कई बार विस्तार और पुनर्निर्माण किया गया, जिसमें नॉर्मन के विभिन्न तत्व, 13वीं शताब्दी और 15वीं शताब्दी के निर्माण आज भी दिखाई देते हैं। टॉवर ऑफ लंदन से इसकी निकटता का मतलब था कि इसने शाही कनेक्शन हासिल कर लिया, एडवर्ड चतुर्थ ने अपने चैपल में से एक को शाही मंदिर बना दिया और टॉवर निष्पादन के पीड़ितों को ऑल हैलोज़ में अस्थायी दफन के लिए भेजा जा रहा था, सर थॉमस मोर सबसे प्रतिष्ठित में से एक थे यहाँ इन।

राष्ट्रमंडल युग के दौरान चर्च पर किए गए काम का एकमात्र उदाहरण

1650 में एक विस्फोट से चर्च बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया था, जब चर्च से सटे एक गोदाम में रखे जा रहे बारूद के कुछ बैरल में विस्फोट हो गया था। उसका पश्चिमी गुम्मट और उसके पास के लगभग 50 घर नष्ट हो गए और बहुत से लोग मारे गए। 1658 में टावर का पुनर्निर्माण किया गया था, राष्ट्रमंडल युग (1649-1660) के दौरान चर्च पर किए गए काम का एकमात्र उदाहरण। यह केवल 1666 में लंदन की ग्रेट फायर से बच गया था और इसके अस्तित्व का श्रेय पेंसिल्वेनिया के विलियम पेन के पिता एडमिरल विलियम पेन के पास है, जिन्होंने पास के नौसैनिक यार्ड से अपने आदमियों को फायरब्रेक बनाने के लिए आसपास की इमारतों को उड़ा दिया था। ग्रेट फायर के दौरान, सैमुअल पेप्सी ने चर्च के टॉवर पर चढ़कर आग की प्रगति को देखा और जिसे उन्होंने ‘वीरानी की सबसे दुखद दृष्टि’ के रूप में वर्णित किया।

 

यह भी पढ़ें: London Diary: पत्रकारों को समर्पित है ये भगवान का घर…….

यह भी पढ़ें: पैगंबर के समय बनी थी भारत की सबसे पुरानी मस्जिद, यहां हिंदू बच्चों को भी दी जाती है तालीम

(अन्य खबरों के लिए हमेंफेसबुकपर ज्वॉइन करें। आप हमेंट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप हेलो एप्प इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More