Tokyo Olympics : जब मैदान पर दिखा फिल्म ‘चक दे इंडिया’ जैसा सीन, थमी रही सभी की सांसें…

0 602

भारतीय महिला हॉकी टीम की टोक्‍यो ओलंपिक में शानदार जीत का श्रेय वैसे तो पूरी टीम को ही जाता है। मगर भारतीय टीम की गोल कीपर सविता पूनिया ने जिस तरह से प्रदर्शन किया है वो बेदह ही हैरतंगेज और काबिलेतारीफ है।

सविता टोक्यो में ऑस्ट्रेलिया के सामने भारत की दीवार बनकर अड़ी रहीं। उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई टीम के 7 पेनल्टी कॉर्नर को गोल में तब्दील नहीं होने दिया और टीम को जीत दिलाकर ही दम लिया।

आखिरी के वो 3 मिनट-

hockey

आखिरी के 3 मिनट जो मैच में सबसे ज्यादा अहम थे उस दौरान ऑस्ट्रेलियाई टीम को दो पेनल्टी मिले, ऐसे में पूरा दवाब सविता पर था।

सविता ने अपने करियर का सबसे मुश्किल 3 मिनट मैदान पर बिताया और ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों के गोल करने की कोशिश को नाकाम कर दिया। इसके साथ ही लोगों को शमित अमीन के निर्देशन में बनी शाहरुख की फिल्म ‘चक दे इंडिया’ की याद आ गई।

पूनिया ने अपना 100 फीसदी दिया और ऑस्ट्रेलिया को एक भी गोल करने नहीं दिया। हर तरफ सविता की तारीफ हो रही है। इस शानदार परफॉर्मेंस ने उन्हें भारतीय महिला हॉकी में नया ‘दीवार’ का निकनेम दे दिया है।

इंडियन हॉकी बेस्ट गोल कीपर हैं सविता-

savita_punia

सविता पूनिया दूसरी बार ओलिंपिक में भाग ले रही हैं। इससे पहले उन्होंने रियो ओलिंपिक में भाग लिया था। हॉकी में शानदार खेल प्रदर्शन के लिए 2018 में उन्हें अर्जुन अवार्ड से सम्मानित किया था। सविता पूनिया को इंडियन हॉकी बेस्ट गोल कीपर भी चुना जा चुका है।

यह भी पढ़ें: Jeetega Mera India : इस तरह भोजपुरी स्टार्स ने Tokyo Olympics 2020 में बढ़ाया भारत का मनोबल

यह भी पढ़ें: Tokyo Olympics, Day 11 LIVE : भारतीय महिला हॉकी टीम ने रचा इतिहास, पहली बार पहुंची ओलंपिक सेमीफाइनल में

-Adv-

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप हेलो एप्प इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

 

 

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More