Banaras Bulletin : क्या गंगाजल से कोरोना को मात दिया जा सकता है ?

0 283

भागदौड़ की जिंदगी में अगर आपसे खबरें छूट जा रही हैं तो बनारस की हर बड़ी खबर को बनारस बुलेटिन (Banaras Bulletin) में फटाफट अंदाज़ में देखें…

छात्र शिव कुमार पाठक गुमशुदगी केस
हाईकोर्ट में पेश हुये एसएसपी अमित पाठक
कोर्ट ने 12 अक्टूबर तक का दिया समय

महीना पहले लंका थाने से पुलिस अभिरक्षा से गायब हुए छात्र शिव कुमार त्रिवेदी के मामले में हाईकोर्ट में मंगलवार को एसएसपी वाराणसी अमित पाठक हाजि‍र हुए। उन्‍होंने कोर्ट में इस बात को स्वीकार किया है कि‍ छात्र लंका थाने से ही गायब हुआ है। हाईकोर्ट में आज सुनवाई करने वाले जजों की बेंच में बदलाव किया गया था, जिस कारण वाराणसी पुलिस को राहत मिली है और रिपोर्ट जमा करने के लिए 12 अक्टूबर तक का समय दिया गया है। छात्र शिव कुमार त्रिवेदी के लापता होने के बाद हाईकोर्ट ने बीएचयू के छात्रों की याचिका पर संज्ञान लेते हुए वाराणसी पुलिस की जमकर क्लास लगायी थी और पिछली तारीख पर सुनवाई करने वाली बेंच ने सख्त टिप्पणी करते हुए 22 तारीख तक छात्र शिव कुमार त्रिवेदी को ढूंढने का फरमाना जारी किया था, वरना वाराणसी पुलिस को सीबीआई जांच के लिए तैयार रहने के लिए भी चेतावनी दी गयी।

क्या गंगाजल से कोरोना को मात दिया जा सकता है ?
बीएचयू के डॉक्टरों ने 130 साल पुराने रिसर्च का दिया हवाला
गंगा स्नान करने वालों पर कोरोना का प्रभाव कम

वाराणसी में भी काशी हि‍न्‍दू वि‍श्‍ववि‍द्यालय के सीनि‍यर चि‍कि‍त्‍सक अब इस बात का पता लगाने में जुटे हैं कि‍ क्‍या गंगाजल से कोरोना को मात दि‍या जा सकता है। बीएचयू स्‍थि‍त सर सुंदरलाल अस्‍पताल के पूर्व एमएस और जाने माने न्यूरोलॉजिस्ट डॉ वि‍जय नाथ मिश्र ने इंटरनेशनल जर्नल ऑफ माइक्रोबायोलॉजी में प्रकाशि‍त होन जा रही उनकी रि‍पोर्ट में ये दावा कि‍या है कि‍ गंगा में मिलने वाले बैक्टीरियोफेज से कोरोना का इलाज संभव है। डॉ वि‍जय नाथ मि‍श्र के अनुसार यह शोध 130 साल पुराना है। कोरोना से इलाज के लिए बनने वाली वैक्सीन के लिए गंगा को किस प्रकार से इस्तेमाल में लाया जाएगा और 130 साल पहले किसने इसपर शोध किया था। डॉ विजय नाथ मिश्र ने इस शोध के बारे में पहले ही ये स्‍पष्‍ट कर दि‍या कि‍ गंगाजल की पवि‍त्रता और रोग नाशक क्षमता को लेकर कि‍या गया शोध उनका नहीं है। डॉ मि‍श्र के अनुसार ये 130 साल पुराना शोध है।

कोरोना खत्म करने के लिये बीएचयू की तैयारी
बीएचयू तैयार कर रहा है हर्बल टैबलेट
आर्टीमिसिया पौधे की पत्ती का हो रहा है इस्तेमाल

BHU में ऐसा हर्बल टैबलेट बनाने का काम शुरू हो गया है जो कोरोना को निष्क्रिय कर देगा। बीएचयू के साइंस इंस्टीट्यूट में सेंट्रल डिस्कवरी सेंटर के शोध छात्र आर्टीमिसिया पौधे की पत्ती से प्रयोग के तौर पर हर्बल टैबलेट बना रहे हैं। इसके तहत आर्टीमिसिया एनुआ पौधे में पाए जाने वाले यौगिक की मदद से मल्टीयूज टैबलेट बनेगी। यह मलेरिया और हेपेटाइटिस में भी इस्तेमाल की जा सकेंगी। वनस्पति विज्ञान विभाग ने आर्टीमिसिया एनुआ पर शोध किया है। दावा किया जा रहा है कि प्रो. शशि पांडेय के शोध अध्ययन के आधार पर स्टार्टअप से तैयार हर्बल टैबलेट कोरोना वायरस के रोकथाम में मदद करेगा।

योगी आदित्यनाथ पर टिप्पणी से भड़के अम्बरीश भोला
सपा नेता लालू यादव के खिलाफ दर्ज कराई थी शिकायत
हिन्दू युवा वाहिनी के मंडल प्रभारी हैं अम्बरीश सिंह भोला

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के करीबी और हिन्दू युवा वाहिनी के मंडल प्रभारी अम्बरीश सिंह भोला ने सोमवार की रात कोतवाली थाना प्रभारी को सपा नेता लालू यादव पर कार्रवाई करने के लिए तहरीर दी। अम्बरीश सिंह भोला ने सपा नेता द्वारा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर अमर्यादित टिप्पणी करने का आरोप लगाते हुए साक्ष्य उपलब्ध कराये हैं। इस सम्बन्ध में हिन्दू युवा वाहिनी के मंडल प्रभारी अम्बरीश सिंह भोला ने बताया कि सोमवार की रात मेरे मोबाइल पर एक न्यूज़ लिंक आया था। इस लिंक को खोला गया तो इसमें सपा नेता लालू यादव द्वारा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ऊपर अमर्यादित टिप्पणी की गयी है। इससे हिन्दू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं और जनता में काफी रोष व्याप्त है।

यह भी पढ़ें: आवश्यक वस्तु (संशोधन) विधेयक 2020 राज्यसभा में पारित

यह भी पढ़ें: PM मोदी ने हरिवंश का किया बचाव, राष्ट्रपति को लिखे पत्र को किया साझा

यह भी पढ़ें: फिल्म सिटी पर अखिलेश का तंज, कहा- सपा काल की घोषणा का श्रेय लेने को तैयार भाजपा

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप डेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)
Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More