बिहार से बनारस पहुंची कोरोना वैक्सीन की सियासत, सपा कार्यकर्ताओं का अनोखा विरोध

0 274

वाराणसी। बिहार विधानसभा चुनाव में कोरोना वैक्सीन की इन्ट्री के बाद अब सियासत का दौर शुरु हो गया है। एक तरफ राजद और कांग्रेस मौजूदा बीजेपी सरकार पर हमलावर है तो दूसरी ओर समाजवादी पार्टी भी पीछे नहीं है। कोरोना वैक्सीन को लेकर समाजवादी पार्टी सुप्रीमो अखिलेश यादव के ट्वीट के बाद अब कार्यकर्ता सड़कों पर उतर आये हैं। वाराणसी में इस मुद्दे को लेकर सपा कार्यकर्ताओं ने एक अनोखा विरोध किया।

मन्दिर के बाहर लोगों को लगाये टीके

लक्सा स्थित मिसिर बाबा मंदिर के पास समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता पहुंचे। हाथों मेनन पूजा की थाली लिये कार्यकर्ताओं ने वहाँ से गुजरने वाले लोगों के माथे पर टीका लगाना शुरु किया तो लोग भी दंग रह गये। पहले तो लोगों ने सोचा की किसी धार्मिक मकसद से टीका लगाया जा रहा है, लेकिन बाद में हकीकत से वाकिफ होने के बाद अपनी प्रतिकिया दी। सपा कार्यकर्ताओं के अनुसार हमारी हैसियत दवा की नहीं बस मां दुर्गा के टीके की है।

कोरोना वैक्सीन

कोरोना का डर दिखाकर वोट लेना चाहती है बीजेपी

इस संबंध में पूर्व पार्षद रविकांत विश्वकर्मा ने कहा कि मौजूदा बिहार की नितीश-सुशील मोदी सरकार ने अपने चुनावी मेनीफेस्टो में बिहार की जनता से वादा किया है कि अगर हमारी सरकार बनी तो वो सभी को कोरोना की वैक्सीन का टिका बिहार में मुफ्त करेंगे। रविकांत विश्वकर्मा ने कहा कि एक लाइलाज बिमारी से लोगों को डराकर, उन्हें ज़िन्दगी और मौत का भय दिखाकर वोट मांगना कैसी राजनीति है। चुनाव आयोग को इसपर संज्ञान लेना चाहिए। रविकांत विश्वकर्मा ने कहा कि ऐसे तो है कि जिन राज्यों में चुनाव नहीं है वहां मौजूदा केंद्र सरकार टीका नहीं उपलब्ध कराएगी और हमें ऐसे ही महामारी से मरना होगा , या हमें भी ज़िन्दगी से लड़ते हुए इस बिमारी के टीके के लिए चुनाव का इंतज़ार करना होगा।

यह भी पढ़ें: असि नदी को बचाने के लिये शुरू होगा ‘महाअभियान’, मिशन पर लगेगी चार टीमें

यह भी पढ़ें: सरकार का बड़ा फैसला: कोरोना पीड़ित के शव को अंतिम संस्कार से पहले देख सकेंगे परिजन

यह भी पढ़ें: Audio Viral: सिपाही से बोले एसपी अभिषेक सिंह- तुम्हारी छाती पर चढ़कर गोली मारू तुम्हें मैं…

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप डेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More