रौशनी ने अपनी लक्ज़री कार को बनाया एम्बुलेंस, जानें कैसे

0 859

 

कोरोना वायरस संक्रमण की ऐसी मुश्किल घड़ी, जहां कई अपने ही दामन छोड़कर जा रहे हैं. ऐसे में धार्मिक नगरी काशी में युवा समाजसेवी ने मानवता की नयी मिसाल पेश की है. वाराणसी के सुंदरपुर की रहने वाली रोशनी कुशल जायसवाल एंबुलेंस की कमी से जुझते लोगों के लिए देवदूत बनकर सामने आई हैं. रोशनी ने कोरोना मरीजों के लिए अपनी महिंद्रा XUV कार को ही एंबुलेंस बना लिया है.

यह भी पढ़ें : नहीं मिली शराब, सैनिटाइजर पीने से 7 की मौत

कार को बनाया एम्बुलेंस

वाराणसी शहर में अगर किसी कोरोना मरीज को एंबुलेंस नहीं मिल पा रही है, तब संक्रमण में तमाम आशंकाओं और डर के बीच रोशनी सुबह से लेकर रात तक मरीजों को अस्पताल लाने ले जाने का काम कर रही हैं. मरीजों से बिना पैसे लिए ये युवा समाजसेवी अपनी जान जोखिम में डालकर लोगों की मदद कर रही हैं.रोशनी ने बताया कि जब अचानक से कोरोना संक्रमितों के आंकड़े बढ़े, तब मरीजों को लाने ले जाने के लिए एंबुलेंस की कमी होने लगी और ऐसे समय में उन्होने पर्सनल कार को ही एंबुलेंस में बदलकर मरीजों को लाने ले जाने की ठानी.

एम्बुलेंस

यह भी पढ़ें : 18+ वैक्‍सीनेशन: इन आसान स्‍टेप के जरिये हो जायेगा रजिस्‍ट्रेशन

सोशल मीडिया के जरिए लोगों से की अपील

अपनी मुहीम से लोगों को जोड़ने के लिए रोशनी सोशल मीडिया का सहारा ले रही हैं. अगर किसी कोरोना संक्रमित को अस्पताल में भर्ती करवाना हो या फिर जाँच के लिए ले जाना हो, रोशनी अपनी कार को निःशुल्क मुहैया करा रही हैं. इसके लिए उन्होंने जिला प्रशासन से बकायदा परमिशन भी ली है. दरअसल वाराणसी में एम्बुलेंस के अभाव में एक महिला अपने बेटे के शव को ई-रिक्शा से ले जाते हुए देखी गई. विचलित कर देने वाली तस्वीर खूब वायरल हुई थी. यही नहीं कुछ दिन पहले ऑटो से शव को ले जाते तस्वीर भी सामने आई थी. बताया जा रहा हैं कि कोरोना काल में एम्बुलेंस वाले मनमानी कर रहें हैं. महज कुछ दूरी के लिए 3000 से 8000 रूपये वसूल रहें हैं. ऐसे में रोशनी ने लोगों के दर्द को समझा और मदद के लिए आगे आईं.

 

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप डेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More