यहीं से जाता है पाताल का रास्ता, दफन है कलयुग के अंत का रहस्य

0 2,161

‘भारत’ एक रहस्यमय देश है। इसे ऋषि-मुनियों और अवतारों की भूमि माना जाता है। इस देश में कई ऐसे कई स्थान हैं, जिनके राज आज भी बरकरार हैं।

आज हम आपको एक ऐसी गुफा के बारे में बताने जा रहे हैं, जो धर्म के लिहाज से बहुत खास हैं। मान्यता है कि इस गुफा में हिंदू धर्म के 33 करोड़ देवी-देवता एकसाथ निवास करते हैं।

पहाड़ी के 90 फीट अंदर है ये गुफा-

यह गुफा उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में स्थित पाताल भुवनेश्वर गुफा भक्तों के आस्था का केंद्र है। यह गुफा विशालकाय पहाड़ी के करीब 90 फीट अंदर है।

पाताल भुवनेश्वर गुफा उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल के प्रसिद्ध नगर अल्मोड़ा से शेराघाट होते हुए 160 किलोमीटर की दूरी तय कर पहाड़ी वादियों के बीच बसे सीमांत कस्बे गंगोलीहाट में स्थित है।

सैलानियों के लिए आकर्षण का केंद्र-

Patal Bhuvaneshwar Cave

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार 772 ई. के आसपास इस गुफा की खोज आदि जगत गुरु शंकराचार्य ने की थी। कलयुग में जब जगत गुरू शंकराचार्य का इस गुफा से साक्षात्कार हुआ तो उन्होंने यहां तांबे का एक शिवलिंग स्थापित किया।

आज पाताल भुवनेश्वर गुफा सैलानियों के लिए आकर्षण का केंद्र बन चुका है। देश-विदेश से कई सैलानी इस प्राचीन गुफा और यहां स्थित मंदिर में दर्शन करने के लिए आते हैं। मान्यता ये भी है कि द्वापर युग में पांडवों ने यहां शंकर भगवान के साथ चौपाड़ खेला था।

जुड़ी हैं कई मान्यताएं-

Patal Bhuvaneshwar

पाताल भुवनेश्वर गुफा से जुड़ी एक मान्यता ये भी है कि भगवान शिव ने गणेश जी का सिर काटने के बाद यहीं पर रखा था, जिसे आज भी पूजा जाता है।

वहीं भगवान शिव की लीला स्थली होने के कारण उनकी विशाल जटाएं इन पत्थरों पर नजर आती हैं। इस गुफा में शिव जी की तपस्या के कमण्डल, खाल सब नजर आते हैं।

यहां मौजूद है कई रहस्य-

पाताल भुवनेश्वर गुफा में चारों युगों के प्रतीक में 4 पत्थर स्थापित किए गए हैं। इनमें से एक पत्थर को कलयुग का प्रतीक माना जाता है, जो धीरे-धीरे ऊपर उठ रहा है।

कहा जाता है कि अगर यह पत्थर दीवार से टकरा जाएगा, तो उसी दिन कलयुग का अंत हो जाएगा। इसके साथ गुफा में ऐसी कई रहस्यमय चीजें मौजूद हैं, जिसके वजह से यह गुफा हमेशा चर्चा में रहता है।

यह भी पढ़ें: जानें, कैलाश पर्वत से जुड़े इन रहस्यों के बारे में…

यह भी पढ़ें: यहां देवी के रूप में होती है हनुमान जी की पूजा…

-Adv-

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप हेलो एप्पडेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More