पाक PM इमरान खान ने मंत्री फवाद चौधरी को भेजा समन, नेशनल असेंबली में पुलवामा हमला कराने की स्वीकारी थी बात

0 496

भारत में पिछले साल पुलवामा हमला कराने की बात पाकिस्तान के स्वीकार करने के बाद यह मामला और भी गरमा गया है। पाकिस्तानी मंत्री फवाद चौधरी के इस बयान के बाद सियासी गलियारी में एक-दूसरों पर हमलों का दौर शुरू हो गया। इस बीच मंगलवार को पाक प्रधानमंत्री इमरान खान ने उनके मंत्री फवाद चौधरी को पुलवामा हमले की स्वीकार्यता वाले मामले में समन भेजा है।

दरअसल, हाल ही में पाकिस्तान ने नेशनल असेंबली में यह स्वीकार कर लिया था कि इमरान खान के नेतृत्व में पुलवामा अटैक हुआ था। असेंबली में पाकिस्तानी मंत्री फवाद चौधरी ने कहा था कि पुलवामा हमला इमरान खान सरकार की बड़ी कामयाबी है। साथ ही फवाद ने कहा कि पाकिस्तान ने पुलवामा की घटना के बाद भारत को करारा जवाब दिया और अपने क्षेत्र में प्रवेश करने के बाद पाकिस्तान वायु सेना (पीएएफ) ने दुश्मन को मार गिराया।

विपक्षियों पर जमकर साधा निशाना

पुलवामा हमले की बात पाकिस्तान के स्वीकार करने के बाद भारत में भी विपक्षियों पर जमकर निशाना साधा गया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री जावडेकर समेत कई दिग्गज नेता विपक्षियों पर हमलावर हुए। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा कि पाकिस्तान ने माना कि पुलवामा में हमला उन्होंने किया। अब कांग्रेस वाले और बाकी लोग जो साजिश की बात करते थे, उनको देश से माफी मांगनी चाहिए।

गौरतलब है कि जब भारत सरकार की और से सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक को लेकर जानकारी देश के साथ साझा की गई थी तो देश की कई विपक्षी पार्टियों के नेताओं ने इसको लेकर सरकार से कई तरह के सवाल किए थे। अपने देश की सेना की ताकत और शौर्य पर भरोसा करने के बजाए विपक्षी पार्टी के कई नेताओं ने सरकार पर जमकर सवाल दागे। तब सरकार की तरफ से भी इस मामले को लेकर कहा गया था कि इस तरह सरकार से सवाल करके विपक्ष के नेता सेना के मनोबल को तोड़ने का काम कर रहे हैं।

फवाद चौधरी ने कबूली पुलवामा हमले की बात

दरअसल, बुधवार को पाकिस्तान नेशनल असेंबली में मुस्लिम लीग-एन के नेता अयाज सादिक ने एक मीटिंग का हवाला देते हुए बताया कि अगर अभिनंदन को रिहा नहीं करते तो पाकिस्तान पर भारत हमला कर देता। अयाज सादिक ने कहा कि “विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने एक अहम मीटिंग में कहा था कि अगर हम अभिनंदन को नहीं छोड़ते तो भारत रात 9 बजे तक हमला कर देता।” अयाज ने विपक्षी नेताओं को बताया, “मुझे याद है कि मीटिंग के दौरान आर्मी चीफ बाजवा कमरे में आए, उस समय उनके पैर कांप रहे थे और वे पसीना-पसीना थे।” इसी पर सफाई देने हुए फवाद चौधरी ने पुलवामा हमले की बात कबूल की।

पुलवामा हमले पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने दी सफाई

वहीं पुलवामा हमले पर प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत को सफाई देते हुए कहा था कि पुलवामा हमले में हम पर झूठा आरोप लगाया गया है। अगर आप हम पर कार्रवाई करेंगे तो हम भी जंग के लिए तैयार हैं। इमरान ने कहा कि भारत दुनिया की किसी भी एजेंसी से जांच करा लो, हम तैयार हैं। हम दहशतगर्दी पर भी बात करने को तैयार हैं।

फवाद ने विपक्ष को भी दी थी पुनर्विचार करने की सलाह

इसके बाद नेशनल असेंबली में बयान देने के बाद फवाद चौधरी ने विपक्ष को अपने व्यवहार पर पुनर्विचार करने की सलाह दी और कहा कि संघीय सरकार की आलोचना का हमेशा स्वागत किया जाता है, लेकिन राज्य की आलोचना नहीं की जानी चाहिए।

फवाद ने कहा, “आप असेंबली के फ्लोर के ऊपर बातें कर रहे हैं और झूठ इतने कॉन्फिडेंट से बोल रहे हैं कि झूठा शख्स भी क्या बात करेगा? जिस एतमाद से आकर उन्होंने ये बातें कहीं कि महमूद कुरैशी साहब की टांगे कांप रही थीं। हिन्दुस्तान हमला कर रहा है। हमने हिन्दुस्तान को घुसकर मारा है और पुलवामा में जो कामयाबी है, वह इमरान खान की सरकार में बड़ी कामयाबी है। उसके हिस्सेदार आप भी सब हैं।”

14 फरवरी 2019 को हुआ था पुलवामा हमला

बता दें कि 14 फरवरी 2019 को पुलवामा में हुए हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे।

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में छिटपुट हिंसा के बीच तीन बजे तक 57 फीसदी मतदान

यह भी पढ़ें: बिहार चुनाव: दूसरे चरण का मतदान संपन्न, EVM में कैद 1463 प्रत्याशियों की किस्मत

यह भी पढ़ें: पुलिस विभाग के दरोगा की दर्दनाक मौत, परिवार में मचा कोहराम

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप डेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More