‘मैं जिंदा हूं सरकार’

0 231

फिल्म अभिनेता नाना पाटेकर के रसोइये संतोष मूरत सिंह की कहानी पूरी फिल्मी है। बनारस की गलियों से लेकर देश की राजधानी दिल्ली के जंतर-मंतर तक यह शख्स सरकार का ध्यान आकर्षित करने के लिए गले में तख्ती टांगकर चीख रहा है- ‘मुंबई में 2006 में हुए बम धमाकों में मैं नहीं मरा हूं, मैं जिंदा हूं, मेरी मदद करिए।’ 12 साल से यह गुहार लगाने वाला शख्स प्रधानमंत्री मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के चौबेपुर का रहने वाला है।

नाना पाटेकर के रसोईया थे संतोष

कभी बॉलीवुड अभिनेता नाना पाटेकर के यहां रसोईया रहे 35 वर्षीय संतोष मूरत सिंह जंतर-मंतर पर 2012 से ही धरना दे रहे हैं, ताकि साबित कर सके कि वो अभी जीवित हैं। संतोष को मृत दिखाकर उनके पट्टीदारों ने बनारस के चौबेपुर में उनकी 18 बीघा जमीन अपने नाम करा ली थी। संतोष ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से भी मुलाकात की है।

गांव ने किया बहिष्कार

अभिनेता नाना पाटेकर वर्ष 2003 में रिलीज हुई फिल्म ‘आंच’ की शूटिंग के लिए संतोष के गांव पहुंचे थे। मेलजोल बढ़ाने पर पाटेकर उन्हें अपने साथ मुंबई ले गए। संतोष का कहना है कि वहां वे मराठी दलित महिला से प्‍यार कर बैठे और उसी से शादी कर ली। 2002 में वे अपनी नवविवाहिता पत्‍नी के साथ वापस अपने गांव आ गए। लेकिन स्‍वागत की जगह उन्हें परिवार वालों व पूरे गांव से सामाजिक बहिष्‍कार का सामना करना पड़ा।

कागज में मृत्‍यु घोषित

समय के साथ सब ठीक हो जाएगा सोचकर संतोष पत्‍नी के साथ मुंबई वापस आ गए। एक महीने बाद संतोष को पता चला कि उनके चचेरे भाई ने उन्हें मृत करार दे दिया है। यहां तक कि उन लोगों ने पूरे रीति रिवाजों के साथ संतोष का अंतिम संस्‍कार भी कर दिया और डेथ सर्टिफिकेट बनवा लिए। सभी कागजात जो संतोष को सही साबित कर सकते थे, उन्हें खत्‍म कर दिए गए हैं। इसलिए पेपर पर उनकी मृत्‍यु हो चुकी है। संतोष के माता-पिता का निधन हो चुका था, जबकि तीनों बहनों की शादी हो चुकी है।

लड़ चुके हैं राष्ट्रपति का चुनाव

खुद को जिंदा साबित करने के लिए संतोष वर्ष 2012 में राष्ट्रपति चुनाव के लिए पर्चा भी भरा था। लेकिन मदद नहीं मिल पाने के कारण 2012 में सिंह धरना पर बैठ गए। संतोष बताते हैं कि उन्हें अब भी नाना पाटेकर का पूरा सहयोग मिल रहा है। नसीरुद्दीन शाह के साथ पाटेकर यहां मिलने आए थे। इसी क्रम में उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव ने दखल दिया और हजरतगंज पुलिस स्‍टेशन में एफआइआर दर्ज कराया।

अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More