मार्केटिंग का मायालोक, नियाग्रा फॉल- हेमंत शर्मा

0 164

वरिष्‍ठ पत्रकार टीवी9 भारतवर्ष के डायरेक्‍टर और साहित्‍यकार हेमंत शर्मा इन दिनों अमेरिका की यात्रा पर हैं. यात्रा के दौरान वह जहां भी जा रहे हैं, अपने अनुभव और जानकारी को शब्‍दबद्ध कर रहे हैं. हम आपको भी उनके साथ अमेरिका की यात्रा पर लिये चलते हैं. कम समय में किये गये उनकी शब्‍द रचना के साथ.

डेढ़ दिन, ढाई लाख रूपया और आने-जाने का खटकरम पानी में. नियाग्रा से बेहतर और आकर्षक तो अपना राजदरी, देवदरी और लखनिया दरी है. छतरपुर का राने फ़ॉल तो इससे तीन गुना बड़ा है. उसकी कोई तुलना ही नहीं है, इस मामूली जल प्रपात से. दुनिया में मार्केटिंग से कैसा मायालोक बनाया जा सकता है, नियाग्रा फ़ॉल उसका उदाहरण है. कुछ ख़ास नहीं है और लोग इसे देखने दौड़े चले आते है हिन्दुस्तानियों की संख्या ज़्यादा है.

न्‍यूयार्क और कनाडा की सीमा पर है नियाग्रा…

नियाग्रा जलप्रपात अमेरिका के न्यूयॉर्क राज्य और कनाडा के ओंटारियो राज्य की सीमा पर है. इस अन्तर्राष्ट्रीय सीमा को तय करती है बीच में बहने वाली नियाग्रा नदी. नियाग्रा जलप्रपात दो लेक एरी (Erie) और Lakes ओंटारियो (Ontario) को जोड़ता है. यह दुनिया के ऊँचे जलप्रपातों में से एक है. यह जलप्रपात न्यूयॉर्क राज्य के बफेलो से 27 किलोमीटर कनाडा के टोरंटो (ओन्टारियो) से 63 किलोमीटर की दूरी पर है. नियाग्रा जलप्रपात तीन झरनों Horseshoe Falls, the American Falls और Bridal Veil Falls के मिलने से बनता है. कनाडा से जाने पर एयर पोर्ट टोरोंटो होता जो ढाई घटें की दूरी पर है और अमेरिकन साईड में हफ़्ते कस्बा है. जहॉं से नियाग्रा 40 मिनट दूर है. इसलिए, हमने न्यूयार्क से बफेलो का जहाज लिया फिर टैक्सी से नियाग्रा गए. रास्ते में सीमा पार करने के लिए इमिग्रेशन हुआ. जो हमारे टैक्सी चालक कराची के सिद्दीक़ी जी ने ही कार में ही बैठे बैठे करा दिया.

जिस होटल हिल्टन में हम ठहरे वह जल प्रपात के ठीक सामने था. हम कमरे से ही देने जलप्रपात देख रहे थे. इस एक नदी में दो झरने गिरते हैं एक अमेरिकन साईड से दूसरा कनाडा की तरफ़ से. नियाग्रा जलप्रपात की ऊंचाई महज 50 मीटर यानी 160 फ़ीट है. जो सीधा गिरता है. आपको पता है छतरपुर का राने जल प्रपात 200 मीटर नीचे नदी में गिरता है. नियाग्रा में Horseshoe Falls लगभग 57 मीटर (188 फीट) ऊंचा है, यह घोड़े के खुर के आकार यानी यू शेप में है. इसलिए इसका नाम हार्स शू है. जबकि American Falls की ऊंचाई 21 से 34 मीटर (70 और 110 फीट) के बीच है, क्योंकि इसके आधार पर विशाल शिलाखंड मौजूद हैं. Horseshoe Falls लगभग 670 मीटर (2,200 फीट) चौड़ा है, जबकि American Falls 260 मीटर (850 फीट) चौड़ा है. अब आपको इसके मामूली होने का अंदाज़ा लग गया होगा.

न्यूयॉर्क का सबसे बड़ा बिजली उत्पादक…

इस फ़ॉल को देखने आने वाले में 1.20 करोड़ सालाना आते हैं. इसमें बड़ी संख्या भारतीयों की होती है. यानी इतने लोग मेरी तरह मूर्ख बनते हैं. प्रपात तक बड़ी मोटर वोट से ले जाते है. पानी के अनवरत गिरने से जो मिस्ट बनती है. वह सैकड़ों फ़ीट उप्र तक जाती है. यही इसकी कथित सुन्दरता है. देखने में चाहे जैसा हो पर नियाग्रा आज भी न्यूयॉर्क राज्य का सबसे बड़ा बिजली उत्पादक है. नियाग्रा जलप्रपात से हर मिनट 168,000 क्यूबिक मीटर (6 मिलियन क्यूबिक फीट) से अधिक पानी गिरता है. जो लगभग ओलंपिक आकार के 70 स्विमिंग पूल के पानी के बराबर है. नियाग्रा नदी का सबसे गहरा बिंदु Horseshoe Falls के ठीक नीचे है, जो 100 फीट (35 मीटर) गहरा है. हम यहीं कल शाम दो घंटे तक बैठ इसके वर्णित सौन्दर्य को खोजते रहे. इसके बाद डिनर सामने के स्काईलैन टावर पर हुआ.

नियाग्रा का हो रहा है क्षरण…

नियाग्रा जलप्रपात नियाग्रा नदी, और संपूर्ण ग्रेट लेक्स बेसिन, जिसका यह एक हिस्सा है, पिछले हिमयुग की विरासत है. 18,000 साल पहले, दक्षिणी ओंटारियो दो से तीन किलोमीटर मोटी बर्फ की चादरों से ढका हुआ था. नियाग्रा प्रायद्वीप लगभग 12,500 साल पहले बर्फ से मुक्त हुआ था. जैसे-जैसे बर्फ उत्तर की ओर पीछे हटती गई, इसका पिघला हुआ पानी नीचे की ओर बहने लगा, जो एरी झील, नियाग्रा नदी और ओंटारियो झील, सेंट लॉरेंस नदी और अटलांटिक महासागर तक नीचे की ओर बहने लगी.

नियाग्रा फ़ॉल का क्षरण (erosion) वैसे ही हो रहा है, जैसे अपने यहॉं गंगोत्री का. पिछले 560 वर्षों के दौरान अनुमानित 1 से 1.5 मीटर प्रति वर्ष कटाव हुआ है. इसके कटाव की वर्तमान दर 1 फुट प्रति वर्ष है. चली गति से गंगोत्री भी पीछे जा रही है. नियाग्रा शब्द की उत्पत्ति इरोक्वियन (Iroquoian) शब्द (Native American की भाषा) ‘ओनगुइरा’ (Ongiara) से हुई है जिसका अर्थ है ‘thundering water’. जिसे फ्रांसीसी खोजकर्ताओं ने बदलकर “नियाग्रा” कर दिया था.

फ्रांसीसी खोजकर्ता ने लगाया था पता…

नियाग्रा जलप्रपात के पास सबसे पहले फ्रांसीसी खोजकर्ता पहुंचे थे. जलप्रपात का दौरा करने वाले पहले यूरोपीय एटिने ब्रूले थे,यह फ्रांसीसी खोजकर्ता साल 1626 में वहां पहुंचा था. उनका कोई लिखित रिकॉर्ड नहीं है. लेकिन उन्होंने अपने संरक्षक और फ्रांसीसी खोजकर्ता Samuel de Champlain को रिपोर्ट भेजी थी. जिसमें उन्होंने इस फॉल के बारे में लिखा था. साल 1632 में, नियाग्रा का नक्शा बनाने और प्रकाशित करने वाले पहले व्यक्ति Champlain ही थे. अमेरिकी यात्रा के अनुसार, पहला प्रत्यक्षदर्शी प्रमाण बेल्जियम के मिशनरी, फादर Louis Hennepin द्वारा लिखा गया था, जो साल 1677 में फ्रांसीसी खोजकर्ता René-Robert Cavelier, Sieur de La Salle के साथ यात्रा कर रहे थे. इस प्रकार यूरोपीय लोगों के ध्यान सबसे पहले इस जलप्रपात की ओर गया. René-Robert Cavelier को Great Lakes region खोजने का श्रेय दिया जाता है. फ्रांसीसियों ने साल 1679 में नियाग्रा के पास पहला किला बनाया, जिसे फोर्ट कोंटी के नाम से जाना जाता है. बाद में पहला स्थायी किला फोर्ट नियाग्रा साल 1726 में बनाया गया. अंग्रेजों ने साल 1759 में युद्ध के दौरान नियाग्रा किले पर कब्जा कर लिया था. अमेरिकी क्रांति के बाद किला साल 1796 में अमेरिकी नियंत्रण में आया. लेकिन, साल 1813 में अंग्रेजों द्वारा पुनः कब्जा कर लिया गया पर युद्ध के बाद अंग्रेजी सेना ने संयुक्त राज्य अमेरिका को किला वापस सौंप दिया.

धीरे-धीरे नियाग्रा को लोग भूल जायेगें. इसकी जगह लोग वियाग्रा को याद रखेगें. मुर्ख बनकर हम वापस न्यूयार्क लौट रहे है. आज न्यूयार्क में दुनिया की सबसे बडी पंचायत UN यानी संयुक्त राष्ट्र संघ जायेंगे. उसके बाद रात में लॉस वेगास यानी दुनिया के सबसे बड़े जुआघर की यात्रा पर निकलेगें. यह फ़्लाईट न्यूयार्क से सात घंटे की है.

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More