नहीं बन पाएगा कोरोना वैक्सीन का जाली सर्टिफिकेट

0 376

कोरोना वैक्सीन को लेकर देश में तमाम लोगों को भ्रम अभी तक खत्म नहीं हुआ है. अभी भी बहुत से ऐसे हैं जो इससे बचना चाहते हैं. लेकिन कोरोना वैक्सीन लगवाने वालों को जारी होने वाली सर्टिफिकेट उनके लिए जरूरी हो सकता है. ऐसे में इसके फर्जीवाड़े की आशंका भी है लेकिन यह आसान नहीं हो सकेगा. साइबर क्राइम करने वाले शातिर आनलाइन जारी होने वाले सर्टिफिकेट का कापी नहीं कर सकेंगे. असली और नकली सर्टिफिकेट की आसानी से पहचान हो जाएगी. आइए आपको बताते हैं कैसे पहचान सकेंगे असली और नकली कोरोना सर्टिफिकेट की.

यह भी पढ़ें – WHO बना चीन-अमेरिका के बीच फुटबॉल, क्यों बोला अमेरिका दबाव बनाते रहेंगे

बनाया गया है फूलप्रुफ सिस्टम

कोरोना वैक्सीन के तैयार होने के साथ ही इसे लेकर विवाद शुरू हो गया था. इसकी विश्वसनीयता और प्रभाव को लेकर तमाम सवाल उठते रहे. इसके बावजूद देश के हर नागरिक को कोरोना वैक्सीन लग सके सरकार ने इसके लिए पुख्ता इंतजाम किया है. वैक्सीनेशन के लिए CoWin वेबसाइट या Aarogya Setu ऐप पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन होता है. वैक्सीन लेने के तुरंत बाद CoWin प्लेटफॉर्म द्वारा एक Covid वैक्सीन सर्टिफिकेट जेनरेट किया जाता है. इसमें नाम, उम्र, आईडी के साथ वैक्सीनेशन डिटेल्स समेत एक QR कोड भी होता है. यह QR वेरिफिकेशन के लिए सर्टिफिकेट पर रखा गया है. कोई भी फोटोशॉप आदि के जरिए किसी भी वैक्सीन सर्टिफिकेट को एडिट कर नकली वैक्सीन सर्टिफिकेट बनाने के लिए नहीं कर सकता है.

https://verify.cowin.gov.in/

यह भी पढ़ें – आयकर रिटर्न दाखिला प्रक्रिया अब और आसान, जानिये कहां मिलेंगे कितने फायदे

कोरोना वैक्सीन के बारे में वेबसाइट पर है सही जानकारी

सरकार ने कोरोना सर्टिफिकेटों की प्रामाणिकता की जांच के लिए एक वेरिफिकेशन सिस्टम भी एप पर जोड़ा है. इसके जरिए आसानी से पता लगाया जा सकता है कि किसी व्यक्ति को टीका लगाया गया है या नहीं. बिजनेस प्लेस, ऑफिस या किसी पब्लिक प्लेस पर आने वाले लोगों के टीकाकरण की जानकारी लेनी हो तो सरकारी वेबसाइट का उपयोग करके ऐसा किया जा सकता है. इसके लिए सबसे पहले CoWin वेबसाइट पर जाकर “Verify Certificate” पर क्लिक करना होगा या अपने इंटरनेट ब्राउज़र पर सीधे https://verify.cowin.gov.in/ पर जा सकते हैं. वेबसाइट पर “Scan QR code” पर क्लिक करें, अब आपके डिवाइस पर कैमरे एक्टिव करने के एक नोटिफिकेशन आएगा। इसे Allow करें. कैमरे को सर्टिफिकेट पर दिए QR कोड पर पॉइंट करें और स्कैन करें. QR कोड को स्कैन करने पर एक ऑथेंटिक वैक्सीन सर्टिफिकेट “Certificate Successfully Verified” दिखाएगा. इसमें जिसके नाम से सर्टिफिकेट होगा उसकी सारी डिटेल जैसे नाम,उम्र, जेंडर, डोज लेने की डेट, आईडी, सर्टिफिकेट वास्तविक नहीं है, तो “Certificate Invalid” दिखाई देगी. इससे आसानी से पता लग जाएगा कि किसने कोरोना वैक्सीन का डोज लिया है और कौन नकली सर्टिफिकेट का उपयोग कर रहा है.

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप डेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More