BCCI ने मैच फीस तो बराबर कर दी, लेकिन सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट लिस्ट में अब भी बड़ा अंतर

0 248

भारतीय महिला क्रिकेटर्स के लिए गुरुवार (27 अक्टूबर) का दिन बेहद खास रहा. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने उन्हें दिवाली के बाद स्पेशल गिफ्ट दिया. दरअसल, बीसीसीआई ने महिला और पुरुष के बीच के भेदभाव को खत्म करते हुए ऐलान किया कि अब से महिला और पुरुष को बराबर मैच फीस मिलेगी. इस बात की जानकारी बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने अपने ट्विटर हैंडल के माध्यम से दी.

बीसीसीआई सचिव जय शाह ने ट्वीट में लिखा

‘मुझे यह घोषणा करते हुए खुशी हो रही है कि बीसीसीआई ने इस भेदभाव को दूर करने के लिए पहला कदम उठाया है.हम अपनी अनुबंधित महिला क्रिकेटर्स के लिए वेतन इक्विटी पॉलिसी लागू कर रहे हैं. पुरुष और महिला क्रिकेटरों दोनों के लिए मैच फीस समान होगी, क्योंकि हम क्रिकेट में लैंगिक समानता के एक नए युग में प्रवेश कर रहे हैं. महिला क्रिकेटरों को उनके पुरुष समकक्षों के समान मैच फीस का भुगतान किया जाएगा. टेस्ट (15 लाख), वनडे (6 लाख), टी20 (3 लाख). वेतन इक्विटी हमारी महिला क्रिकेटरों के लिए मेरी प्रतिबद्धता थी और मैं एपेक्स काउंसिल को उनके समर्थन के लिए धन्यवाद देता हूं. जय हिन्द.’

पुरुषों की मैच फीस…

एक टेस्ट मैच: 15 लाख रुपये
एक वनडे मैच: 6 लाख रुपये
एक टी20 मैच: 3 लाख रुपये

महिलाओं की मैच फीस…

एक टेस्ट मैच: 4 लाख रुपये (1 लाख प्रति दिन)
एक वनडे मैच: 1 लाख रुपये
एक टी20 मैच: 1 लाख रुपये

बीसीसीआई के ऐलान के बाद अब महिला टीम को पुरुष टीम जितनी ही मैच फीस मिलेगी.

BCCI Jay Shah
BCCI Jay Shah

महिलाओं को औसतन इतने रुपये मिलते थे…

अगर औसतन तुलना की जाए तो अब तक सीनियर महिला क्रिकेटर्स को घरेलू क्रिकेट में प्रतिदिन मैच के लिए 20 हजार रुपये फीस मिलती थी. यह किसी अंडर-19 पुरुष क्रिकेटर के लगभग बराबर थी. जबकि सीनियर पुरुष खिलाड़ी प्रतिदिन मैच फीस के तौर पर औसतन 60 हजार रुपए कमाई करते हैं. ऐसे में यह महिला और पुरुषों के बीच एक बड़ा अंतर था. मगर अब यह भेदभाव भी दूर हो जाएगा. वर्ष 2022 से पहले महिला क्रिकेटरों को मैच फीस के तहत सिर्फ 12,500 रुपये दिए जाते थे.

न्यूजीलैंड क्रिकेट बोर्ड ने शुरू की पहल…

क्रिकेट में महिला-पुरुषों को समान वेतन देने की पहल जुलाई, 2022 में सबसे पहले न्यूजीलैंड क्रिकेट बोर्ड (एनजेडसी) ने शुरू की थी. न्यूजीलैंड क्रिकेट समान मैच फीस लागू करने वाला पहला बोर्ड था. उन्होंने महिला और पुरुष क्रिकेटर्स को समान वेतन देने का फैसला किया था. इसको लेकर एनजेडसी और 6 बड़ी एसोसिएशन के बीच एग्रीमेंट भी हुआ. यह डील पहले 5 साल के लिए की गई. इसके तहत इंटरनेशनल समेत घरेलू क्रिकेटर्स को भी सभी टूर्नामेंट में होने वाले मैचों की फीस भी समान ही मिलेगी.

BCCI Jay Shah
BCCI Jay Shah

सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट लिस्ट में अब भी बड़ा अंतर…

दरअसल, बीसीसीआई ने जो नई पॉलिसी लागू की है, वह सिर्फ मैच फीस को लेकर है. सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट को लेकर नहीं. मतलब सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट लिस्ट में अब भी महिला और पुरुषों के बीच काफी बड़ा अंतर है. जहां पुरुषों के लिए 4 कैटेगरी हैं तो वहीं महिलाओं के लिए सिर्फ 3 ही कैटेगरी निर्धारित हैं.

सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट 2021-22…

पुरुष कॉन्ट्रैक्ट: कैटेगरी A+ (7 करोड़ रुपये), कैटेगरी A (5 करोड़ रुपये), कैटेगरी B (3 करोड़ रुपये) और कैटेगरी C (1 करोड़ रुपये).
महिला कॉन्ट्रैक्ट: कैटेगरी A (50 लाख रुपये), कैटेगरी B (30 लाख रुपये) और कैटेगरी C (10 लाख रुपये).

बता दें हाल ही में बीसीसीसाई ने महिला क्रिकेटर्स के सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट को बढ़ाया था. भारतीय महिला टीम वर्ष 2017 के वर्ल्ड कप फाइनल में पहुंची थी. इसका उन्हें इनाम मिला था. इसके बाद बीसीसीआई ने सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट बढ़ाकर महिला क्रिकेटर्स को गिफ्ट दिया था. हालांकि, पुरुषों के भी सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट को बढ़ाया गया.

Also Read: क्रिकेट को अलविदा कर ‘बाहुबली’ बन गया इंग्लैंड का यह गेंदबाज, सचिन तेंदुलकर ने की तारीफ

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More