वाराणसीः एनसीएल, एमपीएमएमसीसी और एचबीसीसी के बीच हुआ अनुदान समझौता

अत्याधुनिक मेडिकल उपकरणों के लिए एनसीएल, सीएसआर के तहत कर रहा मदद

0

कैंसर मरीजों को बेहतर सुविधा उपलब्ध कराने के लिए शनिवार 22 जून को नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (एन.सी.एल.), महामना पंडित मदन मोहन मालवीय कैंसर केंद्र, लंका (एम.पी.एम.एम.सी.सी.) और होमी भाभा कैंसर हास्पिटल, लहरतारा (एचबीसीएच) के बीच एक समझौता (एम.ओ.यू.) हुआ. इसके तहत एनसीएल द्वारा दोनों अस्पतालों में अत्याधुनिक मेडिकल उपकरणों की खरीदारी के लिए जरूरी आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई जाएगी. इससे मौजूदा सुविधाओं को अद्यतन और सुदृढ़ करने के साथ कुछ नई सुविधाओं को बढ़ाने में भी मदद मिलेगी.

Also Read: बनारस में जल्द शुरू होगा नये सिग्नेचर ब्रिज का निर्माण

गौरतलब है कि उद्घाटन के बाद से अब तक वाराणसी स्थित टाटा स्मारक केंद्र की इकाइयों, एमपीएमएमसीसी और एच.बी.सी.एच. में एक लाख से अधिक कैंसर मरीजों का पंजीकरण हो चुका है. मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए संस्थान में सुविधा में बढ़ोतरी के लिए अस्पताल की ओर से निरंतर प्रयास किया जा रहा है. इसी कड़ी में शनिवार को एनसीएल, एमपीएमएमसीसी और एचबीसीएच के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया गया. इसके तहत एनसीएल द्वारा अस्पताल प्रशासन को कॉर्पाेरेट सोशल रिस्पॉंन्सिबिलिटी (सी.एस.आर.) के तहत 14.49 करोड़ रुपये उपलब्ध कराया जाएगा. इस राशि से अस्पताल में लैब, रेडियोलॉजी, ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन और सी.एस.एस.डी. विभाग में नए व अत्याधुनिक उपकरण खरीदे जाएंगे.

अनुबंध से मानवता की सेवा को मिलेगा बल

इस मौके पर कोयला मंत्रालय मे पदस्थ भारत सरकार की अपर सचिव रूपिंदर बरार, एनसीएल के सीएमडी बी. साईंराम, एनसीएल के डायरेक्टर (पर्सनल) मनीष कुमार, वाराणसी के मुख्य विकास अधिकारी हिमांशु नागपाल, कोयला मंत्रालय के ज्वाइंट डायरेक्टर सतिन्दर कुमार, एनसीएल के सीएसआर विभागाध्यक्ष राकेश कुमार सिंह गौतम और कैंसर अस्पताल के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी बिरेश चौबे और जनसंपर्क अधिकारी अखिलेश पांडेय उपस्थित रहे. इस एमओयू के मौके पर अस्पताल के निदेशक डॉ. सत्यजीत प्रधान ने कहा कि एमपीएमएमसीसी, एचबीसीएच. टाटा स्मारक केंद्र के तीन मूलभूत सिद्धांतों सेवा, शिक्षा और अनुसंधान को केंद्र में रखकर आगे बढ़ रहा है. कैंसर के खिलाफ टाटा स्मारक केंद्र की लड़ाई में साथ खड़ा होने के लिए हम एनसीएल के शुक्रगुजार हैं. इस अनुबंध से वाराणसी स्थित टाटा स्मारक केंद्र की दो ईकाइयों, एम.पी.एम.एम.सी.सी एवं एच.बी.सी.एच. और एन.सी.एल. के बीच रिश्ते प्रगाढ़ होने के साथ ही मानवता की सेवा को भी बल मिलेगा.

अत्याधुनिक गुणवत्तापरक इलाज उपलब्ध कराना उद्देश्य

सीएसआर के तहत मिलने वाली राशि से अस्पताल में आने वाले कैंसर मरीजों के लिए सुविधाएं बढ़ाने के साथ ही वर्तमान की सेवाओं को भी मजबूती मिलेगी. हमारा उद्देश्य उत्तर प्रदेश सहित पड़ोसी राज्यों के कैंसर मरीजों को टाटा स्मारक केंद्र वाराणसी में अत्याधुनिक गुणवत्तापरक इलाज उपलब्ध कराना है, ताकि मरीजों को इलाज के लिए दूसरे शहर और प्रांतों में न भटकना पड़े और उन्हें घर के पास इलाज कराने में सहूलियत मिल सके. बता दें कि एनसीएल कोल इंडिया लिमिटेड की सिंगरौली स्थित अनुषांगिक कम्पनी है, जो 135 मिलियन टन से अधिक कोयला उत्पादन कर देश की ऊर्जा संरक्षा में महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर रही है. विगत वर्ष एनसीएल सीएसआर के तहत 157.87 करोड़ खर्च कर स्वास्थ, शिक्षा,कौशल विकास, रोजगार सृजन, खेल प्रोत्साहन और दिव्यांग कल्याण को नव आयाम दे रही है.

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More