श्रद्धांजलि: अजय उपाध्याय अद्भुत अध्येता और पहले टेक्नोक्रेट संपादक थे

पिछले दिन वाराणसी के होटल में अचानक बीमारी के बाद हुआ था निधन

0

अमर उजाला और हिंदुस्तान समाचार पत्र के समूह संपादक रहे अजय उपाध्याय के निधन के शोक में मंगलवार को वाराणसी के मैदागिन (गोलघर) स्थित पराड़कर स्मृति भवन में श्रद्धांजलि सभा हुई. सभा में वक्ताओं ने कहाकि अजय उपाध्याय पहले टेक्नोक्रेट संपादक थे. वे अद्भुत अध्येता और ज्ञानी होने के साथ हिंदी वर्तनी और भाषा के प्रति संवेदनशील पत्रकारों की दुर्लभ होती सूची में एक महत्वपूर्ण नाम थे. वे अपने हिसाब से जिंदगी जीने वाले खांटी बनारसी, अत्यंत संवेदनशील, सहज, सरल और पहली मुलाकात में दिल में घर कर लेने वाले जिंदादिल इंसान थे.

Also Read: वाराणसीः सिद्धगिरीबाग मार्ग पर रोपवे पिलर के पास धंसी सड़क, हादसे की आशंका

उनकी स्वाभाविक प्रवृत्ति थी पत्रकारिता

काशी पत्रकार संघ की ओर से आयोजित हुई सभा में प्रोफेसर सुरेंद्र प्रताप ने उन्हें गांधी दर्शन में दक्ष बताया. पूर्व महापौर रामगोपाल मोहले ने उन्हें समाज के प्रति समर्पित व्यक्तित्व की संज्ञा दी. समाजवादी चिंतक विजय नारायण ने उन्हें भाषा और शैली की शुद्धता का पक्षधर बताया. काशी हिंदू विश्वविद्यालय छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष वरिष्ठ कांग्रेस नेता अनिल श्रीवास्तव ने कहा कि पत्रकारिता उनकी स्वाभाविक प्रवृत्ति थी. डा. कवींद्र नारायण ने आने वाली पीढ़ी के लिए अजय उपाध्याय को प्रेरणाश्रोत बताया. काशी पत्रकार संघ के पूर्व अध्यक्ष योगेश कुमार गुप्त ने कहाकि वह निष्पक्ष टिप्पणीकर्ता थे. विजय नारायण ने कहा कि अजयजी सभी के प्रति अपनत्व का भाव रखते थे. उनका जीवन पत्रकारिता के प्रति समर्पित रहा. वाराणसी प्रेस क्लब के अध्यक्ष अरुण मिश्र ने कहा कि अजय उपाध्याय काशी के प्रति संवेदनशील थे. एके लारी ने कहा कि अजयजी में पत्रकारिता के संस्कार थे. डा. अजय कृष्ण चतुर्वेदी ने उन्हें संघर्षशील व्यक्तित्व के रूप में रेखांकित किया. काशी पत्रकार संघ के अध्यक्ष डा. अत्रि भारद्वाज, महामंत्री अखिलेश मिश्र, कोषाध्यक्ष पंकज त्रिपाठी, आर राजीवन, सुधीर गणोरकर, मुन्नालाल साहनी, विमलेश चतुर्वेदी, बृजमोहन पांडेय, आशुतोष पांडेय, कांग्रेस नेता अरविंद किशोर राय ने भी अजय उपाध्याय के कृतित्व व व्यक्तित्व पर चर्चा की. इसी क्रम में काशी पत्रकार संघ के सदस्य मो. इस्माइल, बृजेश मिश्र के अग्रज राजेश मिश्र, संघ के मंत्री सुनील शुक्ल के पिता राधेश्याम शुक्ल, संघ के सदस्य उजैर खां की माता हलीमा खानम, पंकज सिन्हा के पिता आशंका नन्द सिन्हा और अनिल मिश्र की माता माया देवी के निधन पर भी शोक व्यक्त किया गया.

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More