वाराणसी में पंजाब का तस्कर 3 किलो विदेशी सोना के साथ गिरफ्तार

डीआरआई ने शिवगंगा ट्रेन में  छापा मारकर विदेशी सोना, जेवरात समेत 1 लाख नगदी किया बरामद

0

वाराणसी में राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) की टीम ने शिवगंगा एक्सप्रेस में छापेमारी कर विदेशी सोना बरामद किया है. इस दौरान टीम ने पंजाब के सोना तस्कर के पास से तीन किलो सोना के अलावा ज्वैलरी और एक लाख रूपये बरामद किये हैं. बरामद सोने की बाजार में कीमत एक करोड़ 66 लाख रुपये से अधिक बताई गई है. टीम ने तस्कर से यूनिट में पूछताछ के बाद उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया. बाद में उसे कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया. अब डीआरआई सोना तस्कर के नेटवर्क को खंगालने में जुटी है.
राजस्व खुफिया निदेशालय की वाराणसी इकाई की टीम को सूचना मिली कि पंजाब के गुरुतेग बहादुर नगर ( दमदमा साहिब) निवासी प्रदीप कुमार सूरी सोना तस्कर है और बनारस में सोना खरीदने के लिए आया है.

Also Read: मणिपुर में हिंसा प्रभावित लोगों से मिले राहुल, असम में बाढ़ पीड़ितों का जाना हाल

बनारस स्टेशन से पकड़ा गया प्रदीप सूरी

फिर तस्कर की तलाश में टीमें लगाई गईं तो उसकी लोकेशन चौक क्षेत्र में मिली. पड़ताल में पता चला कि वह बनारस से सोना तस्करी कर पंजाब ले जा रहा है. रात की ट्रेन से दिल्ली और फिर पंजाब जाने की तैयारी है. इसके बाद डीआरआई की टीम बनारस स्टेशन पर पहुंची और स्टेशन से लेकर ट्रेनों में पड़ताल शुरू कर दी. हुलिया और सूचनाओं के अनुसार टीम गोपनीय तरीके से बनारस से नई दिल्ली जाने ट्रेनों पर नजर रखे थी. बनारस से नई दिल्ली जाने वाली (12559) शिवगंगा एक्सप्रेस जैसे ही प्लेटफार्म पर आई टीम ने एक-एक कोच खंगालना शुरू किया. जांच के दौरान टीम ने वातानुकूलित प्रथम श्रेणी के 17 नंबर बर्थ पर बैठे युवक का नाम पूछा तो प्रदीप बताया. फिर दस्तावेज खंगाले तो प्रदीप सूरी का पहचान पत्र मिला.

बनारस के तस्कर ने दिया था विदेशी सोना

टीम ने कोच में ही पूछताछ के बाद तलाशी ली तो उसके पास से तीन किलो 176 ग्राम सोना, सोने के गहने और एक लाख रुपये बरामद हुए. बरामद सोना विदेशी था, जिस पर लगे टैग को मिटाया गया था. यह भी पता चला कि गिरफ्तार तस्कर प्रदीप कुमार सूरी बनारस के ही किसी तस्कर से सोना और गहने लेकर पंजाब जा रहा था. वह शिवगंगा एक्सप्रेस से नई दिल्ली पहुंचने के बाद वहां से पंजाब के लिए रवाना होता. टीम ने आरोपित के खिलाफ केस दर्ज कर उसे जिला सत्र न्यायालय की विशेष कोर्ट में हाजिर किया. हालांकि आरोपी की ओर से कोई वकील भी कोर्ट में पेश नहीं हुआ, अभियोजन की दलील के बीच जज ने तस्कर को न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया.

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More