जूतम पैजार के बाद योगी सरकार के मंत्री ने बैठक में जाने से किया इंकार

0 167

संत कबीरनगर जिले में जिला नियोजन समिति की बैठक में बीजेपी सांसद शरद त्रिपाठी और विधायक राकेश सिंह बघेल के बीच बुधवार को जमकर जूतम पैजार हुई थी। इस घटना के बाद विधायक के समर्थकों ने कलेक्ट्रेट में तोड़फोड़ की। रातभर विधायक के समर्थक कलेक्ट्रेट के बाहर धरने पर बैठे रहे। गुरुवार को सुबह-सुबह विधायक के समर्थकों का गुस्सा फिर फूट पड़ा। उन्होंने कलेक्ट्रेट में फिर तोड़फोड़ की जिसके बाद जिला प्रशासन की तहरीर पर विधायक के समर्थकों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया।

बैठक में जाने से कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने किया इंकार

इस घटना का विडियो सोशल मीडिया में वायरल हो गया। बीजेपी की जमकर फजीहत हुई और जिले का माहौल भी बिगड़ गया। गुरुवार को माहौल देखते हुए बस्ती जिले में होने वाली जिला नियोजन समिति की बैठक निरस्त कर दी गई। बैठक में जिले के प्रभारी मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह को पहुंचना था लेकिन उन्होंने बैठक में शामिल होने से इनकार कर दिया।

siddharth nath singh

क्या था मामला ?

उत्तर प्रदेश के संतकबीर नगर जिले में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के सांसद शरद त्रिपाठी और मेंहदावल विधानसभा सीट से बीजेपी विधायक राकेश सिंह के बीच एक कार्यक्रम के दौरान जमकर मारपीट हुई थी। दोनों के बीच यह विवाद शिलापट्ट में बीजेपी सांसद शरद त्रिपाठी का नाम न होने के बाद शुरू हुआ।

Also Read : कैबिनेट मंत्री के सामने BJP सांसद ने पार्टी के विधायक को जूते से मारा

बताया जा रहा है कि सांसद शरद त्रिपाठी ने जूता निकाल लिया और बीजेपी विधायक की जमकर पिटाई की। हैरानी वाली बात तो यह है कि इस दौरान मौके पर योगी सरकार के मंत्री आशुतोष टंडन भी मौके पर मौजूद थे।

अज्ञात लोगों के विरुद्ध केस दर्ज

संतकबीर नगर कलेक्ट्रेट में विधायक समर्थकों ने गुरुवार को तोड़फोड़ की और जमकर नारेबाजी की। समर्थकों को रोकने का प्रयास किया गया लेकिन उन्होंने पुलिस या प्रशासन के किसी भी अधिकारी की बात नहीं सुनी। समर्थकों के उपद्रव से परेशान होकर खलीलाबाद कोतवाली में पुलिस ने नाजिर की तहरीर पर अज्ञात लोगों के विरुद्ध केस दर्ज कर लिया है।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More