अयोध्या की जमीन में हुआ अरबों रुपये का घोटाला- अखिलेश यादव…

0

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और कन्नौज से सांसद अखिलेश यादव ने आज अयोध्या में हुए जमीन घोटाले का आरोप लगाते हुए भाजपा पर बड़ा हमला बोला है. अखिलेश यादव ने “इंडियन एक्सप्रेस” की खबर का हवाला देते हुए कहा कि- अयोध्या में जमीन औने-पौने दाम पर खरीदने और विकास के नाम पर धांधली हुई है. इसकी जांच की जानी चाहिए. अखिलेश ने कहा कि सरकार ने औने- पौने दामों में जमीन खरीदकर भारी मुनाफा कमाया है.जिसकी वजह से पिछले सात सालों से सर्किल रेट भी नहीं बढ़ा है. उन्होंने कहा कि अयोध्या में भूमाफियाओं ने जमीनें खरीदी हैं. जिससे यहां के गरीब लोगों को कोई फायदा नहीं हुआ.

अखिलेश यादव ने उठाए सवाल..

उन्होंने एक्स पर लिखा- ‘जैसे-जैसे अयोध्या की जमीन के सौदों का भंडाफोड़ हो रहा है, उससे ये सच सामने आ रहा है कि भाजपा राज में अयोध्या के बाहर के लोगों ने मुनाफा कमाने के लिए बड़े स्तर पर जमीन की खरीद-फरोख्त की है. भाजपा सरकार द्वारा पिछले 7 सालों से सर्किल रेट न बढ़ाना, स्थानीय लोगों के खिलाफ एक आर्थिक षड्यंत्र है. इसकी वजह से अरबों रुपये के भूमि घोटाले हुए हैं. यहां आस्थावानों ने नहीं बल्कि भू-माफ़ियाओं ने जमीनें खरीदी हैं.

अयोध्यावासियों को नहीं मिला लाभ…

बता दें कि अखिलेश ने कहा कि ”इन सबसे अयोध्या-फैजाबाद और आसपास के क्षेत्र में रहनेवालों को कोई भी लाभ नहीं मिला. गरीबों और किसानों से औने-पौने दाम पर जमीन लेना, एक तरह से जमीन हड़पना है. हम अयोध्या में तथाकथित विकास के नाम पर हुई ‘धांधली’ और भूमि सौदों की गहन जांच व समीक्षा की मांग करते हैं.

दिल्ली- NCR में 5 दिनों तक झमाझम बारिश! IMD ने जारी किया अलर्ट

कई बार उठा चुके हैं जमीन घोटाले का मुद्दा…

गौरतलब है कि अखिलेश यादव अयोध्या में जमीन की ख़रीद में गड़बड़ी का आरोप लगाया है. अखिलेश पहले भी ये मुद्दा उठा चुके हैं. राम मंदिर के उद्घाटन के बाद से ही ये मुद्दा लगातार सुर्ख़ियों में हैं. बड़े-बड़े सेलिब्रिटीज से लेकर अधिकारियों और नेताओं तक ने यहां पर जमीन खरीदी है. राम मंदिर के निर्माण के बाद अयोध्या को एक बड़े धार्मिक टूरिज्म हब के तौर पर तैयार करने का काम चल रहा है. इस वजह से यहां जमकर निवेश हो रहा है.

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More