सावन: पूरे श्रीकाशी विश्वनाथ धाम के चप्पे-चप्पे की होगी निगरानी, तैनात रहेगी फोर्स

मंडलायुक्त व पुलिस कमिश्नर की अध्यक्षता में श्रावण मास की तैयारियों के संबंध में बैठक

0

मंडलायुक्त वाराणसी कौशल राज शर्मा और पुलिस कमिश्नर मोहित अग्रवाल की अध्यक्षता में काशी विश्वनाथ मंदिर में श्रावण मास की तैयारियों के सम्बंध में मंगलवार को बैठक हुई. मंदिर प्रशासन की ओर से सावन की तैयारियों को पीपीटी के माध्यम से अधिकारियों के सामने रखा. बैठक में काशी के लोगों के दर्शन के लिए अलग से द्वार की मांग को देखते हुए इस पर चर्चा हुई. फिलहाल तय यही हो पाया है कि सुबह और शाम चार से पांच बजे तक काशी द्वार से नेमी भक्तों के दर्शन की व्यवस्था की जाएगी.

Also Read: बनने चले थे कालीन भैया, पहुंच गये हवालात

गौरतलब है की इस बार श्रावण मास 22 जुलाई से होकर 19 अगस्त तक है और इस दौरान पांच सोमवार पड़ रहे हैं. इसलिए बाबा दरबार में बड़ी संख्या में दर्शनार्थियों के आने की उम्मीद है. मंदिर प्रशासन की ओर से दर्शनार्थियों की सुविधा के लिए कई जगहों पर लाइव दर्शन, खोया पाया केंद्र जिसमें बहुभाषी कर्मियों की भी व्यवस्था होगी. मौदागिन से गोदौलिया के बीच पूरे सावन माह नो व्हीकल जोन होगा. वृद्ध, अशक्त, दिव्यांग और अति विशिष्ट लोगों के लिए मुफ्त ई-रिक्शा का संचालन किया जायेगा. संपूर्ण धाम क्षेत्र को सीसीटीवी कैमरे से लैस करते हुए कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है. इस दौरान पुलिस कमिश्नर ने सुरक्षा के सभी प्रबंध करने और गर्भ-गृह के पास पुराने पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगाने का निर्देश दिया. मंडलायुक्त ने पूरे क्षेत्र में सुरक्षा के दृष्टिगत सभी सीसीटीवी को चेक कराया और बचे जगहों पर भी कैमरे लगाने का निर्देश दिया. उन्होंने सड़क पर भीड़ को कम करते हुए अंदर बैरिकेड्स को जिग-जैग करने, शेड लगाने को कहा. घाट पर लगी फ्लड लाइट को और बढ़ाने, पब्लिक एड्रेस सिस्टम, गलियों में भी सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम, नगर निगम को सीवरेज चेकिंग और सफाई का उचित प्रबंध करने के लिए निर्देशित किया. कमिश्नर ने परिक्षेत्र के दुकानदारों के साथ भी बैठक की और उचित व्यवस्था बनाने में मदद की अपील की. स्वास्थ्य विभाग को भी पूरे परिक्षेत्र में डॉक्टरों की पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चत करने को कहा गया. मंदिर प्रशासन को ड्यूटी में लगे सभी स्टाफ के खाने-पीने और जलपान के उचित प्रबंध करने, शौचालय, पीने के पानी की समुचित व्यवस्था करने को कहा. इसके साथ ही उन्होंने घाटों पर लगे सभी जेटी को ठीक करने का निर्देश दिया.

अभी नेमी दर्शनार्थियों के लिए खुलेगा काशी द्वार

उधर, कुछ दैनिक नेमी दर्शनार्थियों की ओर से अक्सर शिकायत की जा रही है की उनसे धक्का-मुक्की की जाती है. इसे इसको ध्यान में रखते हुए धाम में अनुशासन बनाये रखने के लिए सभी से लाइन में लगकर दर्शन करने की अपेक्षा की गयी. यह भी कहा गया कि यदि लाइन से दर्शन नही हुआ तोऐसे लोगों को चिन्हित कर नोटिस जारी की जाएगी. अव्यवस्था फैलाने पर धक्का-मुक्की करनेवालों को आम दर्शनार्थियों तरह दर्शन करना पड़ेगा. बैठक में काशीवासीयों के लिए नवीन मार्ग काशी द्वार नंदुफारिया मार्ग से प्रातः और सायं 4 से 5 बजे तक खोलने के प्रस्ताव पर चर्चा हुई. अभी शुरूआत में इसे नेमी दर्शनार्थियों के लिए खोला जायेगा. व्यवस्था सुदृढ़ होने के बाद आम काशीवासीयों के लिए मार्ग खोला जाएगा. बैठक में जिलाधिकारी एस राजलिंगम, अपर पुलिस आयुक्त वाराणसी कमिश्नरेट एस चिनप्पा, मुख्य कार्यपालक अधिकारी विश्व भूषण मिश्रा, सीएमओ, अपर नगर आयुक्त, मंदिर प्रशासन तथा पुलिस विभाग से संबंधित अधिकारी रहे.

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More