नहीं रहे शेयर मार्केट के दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला, 62 वर्ष की उम्र में ली अंतिम सांस, पीएम मोदी ने जताया दुःख

0 77

शेयर बाजार के दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला का रविवार की सुबह 06:45 बजे निधन हो गया है. वो 62 वर्ष के थे और उन्होंने मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में अंतिम सांस ली. जानकारी के मुताबिक, झुनझुनवाला कई स्वास्थ्य समस्याओं से पीड़ित थे और कुछ हफ्ते पहले उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी. झुनझुनवाला के परिवार में उनकी पत्नी रेखा झुनझुनवाला, बेटी निश्था व दो बेटे आर्यमन और आर्यवीर हैं. वह एक ट्रेडर होने के साथ चार्टर्ड एकाउंटेंट भी थे और देश के सबसे अमीर व्यक्तियों में से एक थे. उनके निधन पर पीएम नरेंद्र मोदी ने दुःख व्यक्त किया है.

पीएम मोदी ने राकेश झुनझुनवाला के निधन पर श्रद्धांजलि दी है. उन्होंने ट्वीट में लिखा ‘राकेश झुनझुनवाला एक अदम्य साहस वाले व्यक्ति थे, जीवन से भरपूर, मजाकिया और व्यावहारिक. वह अपने पीछे वित्तीय दुनिया में एक अमिट योगदान छोड़ गए हैं. वह भारत की प्रगति के प्रति भी बहुत भावुक थे. उनका जाना दुखद है. उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदनाएं. ॐ शांति.’

कई तरह के व्यापारों में निवेश करने वाले राकेश झुनझुनवाला ने हाल ही में अकासा एयरलाइंस पर भी निवेश किया था. इसमें 40 प्रतिशत हिस्सेदारी झुनझुनवाला के पास थी. यह निवेश ऐसे समय में किया गया था, जब ज्यादातर विमानन कंपनियां घाटे में चल रहीं हैं. अकासा एयरलांइस ने अपनी उड़ानों के लिए अमेरिकी एयरोस्पेस कंपनी 72 बोइंस 737 मैक्स विमानों की खरीद की थी.

राकेश झुनझुनवाला हंगामा मीडिया और एप्टेक के अध्यक्ष होने के साथ साथ वाइसरॉय होटल्स, कॉनकॉर्ड बायोटेक, प्रोवोग इंडिया और जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के निदेशक भी थे. हाल ही में उन्होंने आकासा एयरलाइंस लाॅन्च की थी. अरबपति निवेशक राकेश झुनझुनवाला ने 40% हिस्सेदारी के लिए अकासा एयर में 50 मिलियन डॉलर का निवेश किया था.

राकेश झुनझुनवाला जब कॉलेज में थे तभी उन्होंने शेयर बाजार में अपना भाग्य आजमाना शुरू कर दिया था. उन्होंने इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया में दाखिला लिया, लेकिन स्नातक होने के बाद दलाल स्ट्रीट में पहली बार गोता लगाने का फैसला किया. झुनझुनवाला ने साल 1985 में 5 हजार रुपये का पूंजी में निवेश किया था. वह पूंजी सितंबर 2018 तक बढ़कर 11 हजार करोड़ रुपये हो गई थी. अपने पिता को दोस्तों के साथ शेयर मार्केट को लेकर चर्चा करते हुए सुनने के बाद राकेश झुनझुनवाला को इसमें दिलचस्पी हुई थी.

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More