“टैंकर माफियाओं से AAP का क्या रिश्ता है?” दिल्ली में पानी की किल्लत को लेकर पूनावाला का केजरीवाल सरकार पर हमला

0

दिल्ली में पानी की किल्लत को लेकर बुधवार को सुप्रीम कोर्ट से केजरीवाल सरकार को फटकार मिलने के बाद भाजपा नेता शहजाद पूनावाला ने आम आदमी पार्टी पर हमला बोलते हुए कहा कि उसे बताना चाहिए कि उसका वाटर टैंकर माफिया से क्या लेना-देना है. उच्चतम न्यायालय ने दिल्ली सरकार से पूछा कि टैंकर माफिया की वजह से दिल्लीवासियों को हर साल पानी के संकट का सामना करना पड़ता है. ऐसे में उसने टैंकर माफिया पर लगाम कसने के लिए क्या कदम उठाए हैं?

बूंद बूंद के लिए तरसा दी सरकार

भाजपा नेता शहजाद पूनावाला ने दिल्ली सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा, आज सुप्रीम कोर्ट ने पानी की किल्लत को लेकर दिल्ली सरकार पर करारा प्रहार किया है और उनके झूठ तथा नौटंकी का पर्दाफाश किया है. सरकार ने लोगों को बूंद-बूंद पानी के लिए तरसा दिया. लोगों की समस्या का समाधान करने की बजाय वह कभी हरियाणा तो कभी हिमाचल प्रदेश पर दोषारोपण कर रही है.

शहजाद पूनावाला ने आगे कहा, आज सुप्रीम कोर्ट ने स्पष्ट कर दिया कि पानी की आपूर्ति में कोई दिक्कत नहीं है. हरियाणा से पानी आ रहा है, हिमाचल से भी पानी आ रहा है, लेकिन जा कहां रहा है? यह गंभीर सवाल है, लेकिन अफसोस दिल्ली सरकार इस सवाल का जवाब देने की स्थिति में नहीं है.

घर घर पानी की जगह पहुंचायी शराब

उन्होंने आगे कहा, यह बात समझ से परे है कि कैसे टैंकर माफिया को पानी मिल जाता है, लेकिन दिल्ली की जनता को पानी नहीं मिल पाता. केजरीवाल सरकार ने सत्ता में आने से पहले दिल्ली की जनता को मुफ्त में पानी देने का वादा किया था, लेकिन अब यह सरकार लोगों के साथ छलावा कर रही है. केजरीवाल सरकार ने घर-घर शराब पहुंचा दिया, लेकिन पानी नहीं भिजवाया. इस स्थिति को आप क्या कहेंगे. इन लोगों से जब भी कोई सवाल किया जाता है, तो वे दूसरों पर दोष डाल देते हैं, लेकिन खुद किसी भी बात की जिम्मेदारी नहीं लेंगे.

Also Read : गाजीपुर में मीटर रीडरों के ईपीएफ खाते में करोड़ो की हेराफेरी

पूनावाला ने आरोप लगाया कि दिल्ली जल बोर्ड भ्रष्टाचार का अड्डा बन चुका है. जल बोर्ड में 80 हजार करोड़ रुपए का घोटाला हुआ है, लेकिन यह सरकार इस पर कुछ भी बोलने की स्थिति में नहीं है. दिल्ली सरकार ने अब तक जो घोटाला किया है, उसके प्रमाण भी सामने आ चुके हैं.

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More