जानें कि दुनिया के कितने लोग अंग्रेजी बोलते हैं और क्‍यों

0 839

भाषा सालों से अपने विचारों को रखने का माध्यम रहा है। हर एक भाषा की जड़े सालों पुरानी बसाई गई सभ्यता से आती है। कुछ आकड़ों की बात करे तो पुरे विश्व में करीब 6500 बोल-चल की भाषा है लेकिन इनमें से कई सारी ऐसी भाषा भी है जिसके वक्ता बहुत कम है। भाषा की पहली छाप करीब 3500 BC के सुमेरियन सभ्यता से मिलती है। कई सारी भाषाओँ का विश्व साक्षी रहा हैलेकिन अधिकांश रूप से इस्तमाल किए  जाने  वाली इस भाषा की जड़े तुलनात्मक रूप से उतनी पुरानी नहीं है। 23 अप्रैल को पूरा लोक विश्व अंग्रेजी दिवस यानि “World English Day” मनाता है। तो आइये आज जानने की कोशिश  करते है कि ऐसी कौन सी चीज़ है जो आज भी अंग्रेजी के अस्तित्व को बरक़रार राखी है।

यह भी पढ़ें : बुंदेलखंड के किसानों की तकदीर बदल सकता है ये शोध

अंग्रेजी और पुरानी भाषाएं!

चीनी भाषा करीब 6000 साल पुरानी भाषा है जो अभी भी जीवित है, हलाकि चौकाने वाली बात ये है कि इस भाषा का इस्तमाल सिर्फ 5 देशों में ही होता है। इतनी पुरानी भाषा होने के बाद भी चीनियों ने अपनी भाषा का प्रभाव फैलने में पीछे रह गए। चलिए हिन्दू, जैन और बुद्ध धर्म की सबसे प्रचलित भाषा की बात करते है। संस्कृत एक बहुचर्चित भाषा है जिसकी महत्ता हिन्दू धर्म में काफी ज़्यादा है। अंग्रेजी के कई शब्द संस्कृत भाषा से ही आते है जैसे संस्कृत में ‘काल’ और अंग्रेजी में ‘कैलेंडर’, संस्कृत में माध्यम और अंग्रेजी में ‘Medium’ जैसे तमाम शब्द है, लेकिन वास्तविक्ता में अंग्रेजी भाषा अंग्रेजी भाषा का प्रचलन इन भाषाओँ से कई ज़्यादा है या यूँ कह सकते है कि समय के साथ इन भाषाओँ का अस्तित्व भी ओझल हो गया है।

अंग्रेजी

लगभग 50 देश ऐसे है जो अंग्रेजी का इस्तमाल अपने आपसी बोल-चल के लिए करते है, और कई ऐसे देख भी है जोकि अंग्रेजी को अपनी आधिकारिक भाषा के रूप में जानते है। कई देशों की प्राथमिक और आधिकारिक भाषा अंग्रेजी ही है। आकड़ों के अनुसार पुरे विश्व का एक तिहाई हिस्सा यानि 2 अरब लोग अंग्रेजी भाषा का इस्तेमाल करते है।

प्राचीन भाषाओँ में से एक अंग्रेजी भी है

अंग्रेजी प्राचीन भाषाओँ में से एक है जिसकी बीज 1600 साल पहले बोई गई थी। शुरुआत में इसकी इस भाषा की स्क्रिप्ट जर्मनिक थी। अंग्रेजी विश्व की एक बहुत ही प्रभावशाली भाषाओँ में से एक रही है और काम के हर क्षेत्र में यह भाषा अपना प्रभाव बनाने में कामयाब रही। लेकिन प्रश्न अभी भी ये उठता है कि अंग्रेजी इतनी प्रसिद्ध भाषा क्यों है? अगर हम यूँ देखे तो अंग्रेजी का एक बहुत ही आकर्षित इतिहास रहा है, और इसके इतिहास के पन्नो में न सिर्फ इंग्लैंड का नाम है बल्कि कई अलग-अलग देश और सामाजिक ग्रुप शामिल है। अंग्रेजी भाषा का विकास कई सारी जंग का साक्षी रहा है जिसकी बदौलत अंग्रेजी का विकास इस कदर हुआ की इसने कई सारी सभ्यताओं की भाषा को अपने अंदर समेट लिएा है। अंग्रेजी भाषा के विकास में फ्रेंच, रोमन जैसी तमाम सभ्यताओं की भाषा शामिल है। यही कारण रहा की अंग्रेजी भाषा का प्रभाव फैलता  गया।

अंग्रेजी का पहला शब्द

चलिए अंग्रेजी भाषा के बारे में कुछ नया जानते है। क्या आप अंग्रेजी का पहला शब्द जानते है? इसकी खोज करने पर google ने बताया कि अंग्रेजी का पहला शब्द “Raihan” है। 1930 में एक पुरातात्विक खोदाई में यह शब्द हिरण की हड्डी पे उकेरी गई एक चिन्ह था। हलाकि अंग्रेज़ी शुरुआत में शुद्ध जर्मनिक स्क्रिप्ट में लिखी गई थी, लेकिन ये शब्द उर्दू भाषा में है जोकि मुस्लिम समुदाय में एक नन्हे नवजात शिशु को दिया जाता है जिसका मतलब हिंदी में ‘मीठी तुलसी’ होता है। मान पाना मुश्किल है लेकिन क्या किया जा सकता है ये पूरी दुनिया आश्चर्यचकित करने वाले तथ्यों से जुड़ी हुई है।

विकास की सीढ़ियों पर अंग्रेजी भाषा 

अंग्रेजी भाषा की विकास में कई चरणे आई थी। अंग्रेजी  भाषा का इतिहास वास्तव में तीन जर्मन जनजातियों के आगमन से शुरू हुआ था, जिन्होंने 5वी शताब्दी में ब्रिटैन पर हमला किया था। उस समय ब्रिटैन के निवासी सेल्टिक भाषा बोलते थे, लेकिन हमलावरों ने ज़्यादातर सेल्टिक वक्ताओं को पश्चिम को और भेज दिया और ब्रिटैन अंग्रेजी भाषा की जन्मभूमि के नाम से सिद्ध  दिया गया था। हालांकि उसके बाद भी भाषा में वृद्धि होती गई। ओल्ड इंग्लिश माना जाता है कि अंग्रेजी भाषा सबसे पहली लिखे और पढ़े जाने वाला तरीका था।

अंग्रेजी

ओल्ड इंग्लिश से मिडिल इंग्लिश और फिर मॉडर्न इंग्लिश जिसे आज के समय में हम पढ़ते और बोलते है। विकास ऐसा था कि ओल्ड इंग्लिश और मॉडर्न इंग्लिश में काफी अन्तर पाया जाता है, लेकिन तब भी जड़े तो वही है। ओल्ड इंग्लिश 5वी शताब्दी से 11वी शताब्दी तक चली थी जिसमे अंग्रेजी के बेसिक्स  मज़बूत किया गया। 11वी शताब्दी से लेकर 15वी शताब्दी तक मिडिल इंग्लिश का फेज चला। यह वही समय था जब फ्रेंच ने इंग्लैंड पर अपनी धाक जमा ली थी। इस समय अंग्रेजी भाषा में अलग-अलग तरह के विकास हुए थे जैसे की-: नाउन और वर्ब्स के रूल को लगातार इस्तमाल में लाने के लिए कई चीज़ों में आसानी बर्ती गई थी।

आखिर कार चालू हुआ मॉडर्न इंग्लिश का समय जब प्रिंटिंग पर ज़्यादा ध्यान दिया गया। ये वही समय है जब ग्रीक और लैटिन जैसे भाषाओँ में से अंग्रेजी के कई शब्दों ने जन्म लिया। इन्ही कुछ सालों में इंग्लिश का पहले शब्दकोष को प्रिंट किया गया था। जी हान उसी डिक्शनरी की बात हो रही जिसे सैमुएल जॉनसन ने 1755 में लिखा था।

तो कुछ ऐसा मन को भा जाने वाला इतिहास रहा है अंग्रेजी भाषा का। कोई भी भाषा किसी से कम नहीं होती है और अनेक भाषा सीखना तो विविधता की प्रथा रही है। अंग्रेजी भाषा एक बहुत ही प्रभावशाली भाषा रही है, और ये हम सबका कर्त्तव्य बनता है कि हम लोगों को अनेक भाषा सिखने के लिए प्रोत्साहित करे। विकास और संचार के लिए भाषा ने पुरे विश्व में एक अहम् भूमिका निभाई है।

इस आर्टिकल के लेखक एक स्‍टूडेंट हैं। जो सामाजिक, आर्थिक और पर्यावरणीय मुदृदों पर लिखते रहते हैं।

वैभव द्विवेदी स्‍टूडेंट

 

 

-Adv-

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप हेलो एप्प इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More