काफी कोशिश के बाद नहीं कंसीव हो रहा बेबी तो, आजमाएं ये योगा…

0

किसी भी महिला के लिए मां बनना जीवन के महत्वपूर्ण हिस्से की तरह होता है, लेकिन कई बार और हर महिला के लिए यह इतना आसान नहीं होता है. आज कल की बदलती जीवन शैली के प्रभाव की वजह से कई महिलाएं चाह कर भी यह सुख हासिल नहीं कर पाती है और फिर मां बनने के लिए मेडिकल का सहारा लेती हैं, जैसे ट्रीटमेंट और आईवीएफ. लेकिन इसके बाद भी कई बार महिलाओं को फायदा नहीं होता है. ऐसे में महिलाओं को समाज के कई पहलुओं से गुजरना पड़ता है, जो अपने आप में बहुत बुरी चीज होती है. अगर आप भी इस दिक्कत से गुजर रही हैं तो, यह खबर आपके लिए है क्योकि इस खबर में हम आपको इससे दिक्कत से निकलने का तरीका बताने जा रहे हैं.

एक्सपर्ट की माने तो, नियमित योगाभ्यास से बांझपन से छुटकारा पाया जा सकता है. क्योंकि उनके पास कई ऐसे मामले आते हैं जिनमें आईवीएफ फेल हो जाता है, लेकिन आयुर्वेदिक उपचार औऱ योगाभ्यास से उन्हें नैचुरली कंसीव करने में सफलता मिली है. क्योंकि योगा आपकी फर्टिलिटी पर काम करता है, साथ ही उपचार पर भी काम करता है. जिसके जरिए योगाभ्यास करने से इस दिक्कत से छुटकारा मिल सकता है तो, आइए जानते है कौन से है वो योगा जो आपके बेबी कंसीव करने में मदद करेंगे.

नियमित व्यायाम से फर्टिलिटी

नियमित रूप से योग करने से आपके हार्मोन संतुलित रहते हैं. योगाभ्यास आपके मन को शांत करता है और शरीर और मन को संतुलित करता है. तनाव भी इनफर्टिलिटी का एक बड़ा कारण है, लेकिन योग करने से तनाव कम होता है.

कौन से हैं वो योगा जो बेबी कंसीव करने में करेंगे मदद

बद्धकोणासन

इस योग को करने के लिए दंडासन मुद्रा में बैठ जाएं. अब आराम मुद्रा में बैठकर अपने हाथों से अपनी जांघों को ज़मीन से लगाएं. अब अपने दोनों हाथों से पैर के तलवों को पकड़कर आख बंद करके पैरों को तितली की तरह हिलाएं. यह योगाभ्यास खासतौर पर महिलाओं के लिए फायदेमंद होता है.

पश्चिमोत्तानासन

पश्चिमोत्तानासन योग करने के लिए सबसे पहले दोनों पैरों को फैलाकर जमीन पर बैठ जाएं. अब गहरी सांस लेते हुए शरीर को आगे की ओर झुकाएं. हाथों को पैरों के तलवे को और नाक को घुटनों से स्पर्श कराएं, कुछ देर तक इस स्थिति में बने रहे और फिर पूर्ववत स्थिति में आ जाएं. यह योगा करने से वजन भी घटता है.

Also Read: मैरिड लाइफ को बनाएं बेहतर, जरूर करें ये 5 काम…

बालासन

योग मुद्रा इस आसन में माता के गर्भ में शिशु की तरह है, शीर्षासन के बाद बालासन यानी चाइल्ड पोज करना फायदेमंद हो सकता है. यहां बालासन का सही अभ्यास बताया गया है. इस योगा को महिलाओं द्वारा कन्सीव करने के कुछ दिन पहले और प्रेंग्नेसी दौरान भी कर सकते हैं.

 

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More