यूपी में करीब एक हजार लोगों का धर्मांतरण कराने वाले दो मौलाना गिरफ्तार

धर्मांतरण कराने वाले रैकेट का भंडाफोड़

0 317

एटीएस ने धर्म परिवर्तन कराने वाले दो मौलानाओं को गिरफ्तार किया है. इन दोनों पर अब तक एक हजार से ज्यादा लोगों का धर्मांतरण कराने का आरोप है. इस मामले में पुलिस ने विदेश से फंडिंग होने का शक भी जताया है. जानकारी के मुताबिक, ये लोग मोटिवेशनल थॉट के जरिए धर्मांतरण करते थे.

यूपी में धर्मांतरण कराने वाले रैकेट का भंडाफोड़

यूपी के नोएडा में एक धर्मांतरण कराने वाले रैकेट का भंडाफोड़ हुआ है. इस मामले में यूपी एटीएस ने दो मौलानाओं को गिरफ्तार किया है. ये रैकेट पिछले दो साल से चलाया जा रहा था और इसमें मूक-बधिर बच्चों और महिलाओं को निशाना बनाकर उनको धर्म परिवर्तन कराया जाता था. इस मामले में पुलिस को विदेशी फंडिंग होने के भी सबूत मिले हैं. अभी तक सिर्फ दो ही गिरफ्तारियां हुई हैं, लेकिन इसमें 100 से ज्यादा लोगों के शामिल होने की आशंका है.

ये भी पढ़ें- यूपी में आज से खुले मॉल और रेस्टोरेंट… जानिए स्कूलों को लेकर क्या है स्थिति, किस दिन खुलेंगे स्कूल-कॉलेज?

एक हजार से ज्यादा लोगों का धर्म परिवर्तन कराया

यूपी के एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) प्रशांत कुमार ने बताया कि पिछले एक साल में 350 लोगों का धर्मांतरण कराया गया है. नोएडा के एक मूक बधिर स्कूल के भी 18 बच्चों का धर्मांतरण कराया गया. अब तक एक हजार से ज्यादा लोगों का धर्म परिवर्तन कराया जा चुका है. ये पूरा रैकेट पिछले दो साल से चल रहा था. उन्होंने बताया कि मामले में विदेशी फंडिंग के सबूत भी मिले हैं. उन्होंने ये भी बताया कि लोगों को डरा-धमकाकर और लालच देकर धर्मांतरण कराया जाता है.

दिल्ली के रहने वाले हैं दोनों आरोपी

पकड़े गए दोनों आरोपी मोहम्मद उमर गौतम और मुफ्ती काजी जहांगीर कासमी दिल्ली के जामिया नगर इलाके के रहने वाले हैं. इनके ऊपर सिर्फ यूपी ही नहीं, बल्कि पूरे देश में धर्मांतरण कराने का आरोप है. इस मामले में एटीएस ने यूपी के गोमती नगर थाने में एफआईआर दर्ज कराई है, जिसमें जामिया नगर स्थित आईडीसी इस्लामिक दवा सेंटर के चेयरमैन का नाम भी दर्ज है. जानकारी के मुताबिक, यूपी एटीएस इन दोनों मौलानाओं से चार दिन से पूछताछ कर रही है. जांच में ये भी सामने आया है कि मोहम्मद उमर गौतम भी हिंदू से मुस्लिम में कन्वर्ट हुआ था. एटीएस की ओर से दर्ज कराई गई एफआईआर के मुताबिक, ये लोग गैर-मुस्लिमों को डरा-धमकाकर, उन्हें नौकरी और पैसे का लालच देकर धर्म परिवर्तन कराते थे. ये लोग आमतौर पर कमजोर वर्गों, बच्चों, महिलाओं और मूक बधिरों को टारगेट कर उनका इस्लाम में धर्म परिवर्तन कराते थे.

गरीब हिंदुओं को बनाते थे निशाना

एटीएस के अफसरों को कहना है कि ये लोग गरीब हिंदुओं को निशाना बनाते थे और अब तक एक हजार से ज्यादा हिंदुओं का धर्मांतरण कर चुके हैं. ये दोनों मौलाना ज्यादा मूक बधिर और महिलाओं का धर्म परिवर्तन करवाते थे. इतना ही नहीं, जांच में ये भी सामने आया है कि नोएडा में चल रहे मूक बधिर स्कूल के डेढ़ दर्जन बच्चों का भी धर्म परिवर्तन करवा चुके हैं. इन दोनों का नाम रामपुर से जुड़े धर्मांतरण के मामले में भी सामने आ रहा है.

ये भी पढ़ें- योग दिवस पर बोले पीएम मोदी- हमें स्ट्रेस से स्ट्रेंथ और नेगेटिविटी से क्रिएटिविटी का रास्ता दिखाता है योग

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप डेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More