कच्चे तेल में नरमी से मिलेगी पेट्रोल-डीजल की महंगाई से राहत !

0 442

अमेरिका में कच्चे तेल के भंडार में बीते चार सप्ताह से हो रही बढ़ोतरी के चलते तेल के दाम पर लगाम लग लग गई है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में गुरुवार को लगातार पांचवें सत्र में कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट दर्ज की गई।

उधर, घरेलू तेल विपणन कंपनियों ने लगातार 19वें दिन पेट्रोल और डीजल के दाम में कोई बदलाव नहीं किया है।

उपभोक्ताओं को मिल सकती है राहत-

जानकार बताते हैं कि तेल के दाम में आई इस गिरावट से भारत में पेट्रोल और डीजल की महंगाई में कितनी राहत मिलेगी यह कहना मुश्किल है, लेकिन अगर अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में और गिरावट आती है तो पेट्रोल और डीजल कीमतों में आने वाले दिनों में बढ़ोतरी की संभावना कम रहेगी जिससे उपभोक्ताओं को उनकी जेब पर पड़ने वाले दबाव से राहत जरूर मिलेगी।

ये हैं पेट्रोल-डीजल के दाम-

इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार, दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में पेट्रोल के दाम क्रमश: 91.17 रुपये, 91.35 रुपये, 97.57 रुपये और 93.11 रुपये प्रति लीटर पर स्थिर बने हुए हैं। डीजल की कीमतें भी दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में स्थिरता के साथ क्रमश: 81.47 रुपये, 84.35 रुपये, 88.60 रुपये और 86.45 रुपये प्रति लीटर पर बनी हुई हैं।

कच्चे तेल में नरमी-

अंतर्राष्ट्रीय वायदा बाजार इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज (आईसीई) पर ब्रेंट क्रूड के मई डिलीवरी अनुबंध में गुरुवार को बीते सत्र से 0.84 फीसदी की नरमी के साथ 67.43 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार चल रहा था।

वहीं, न्यूयॉर्क मर्केंटाइल एक्सचेंज (नायमैक्स) पर डब्ल्यूटीआई के अप्रैल अनुबंध में बीते सत्र से 0.80 फीसदी की गिरावट के साथ 63.08 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार चल रहा था।

अमेरिकी एजेंसी एनर्जी इन्फोरमेशन एडमिनिस्ट्रेशन यानी ईआईए के अनुसार अमेरिका में बीते सप्ताह तेल के भंडार में 24 लाख बैरल का इजाफा हुआ है।

यह भी पढ़ें: कच्चे तेल में नरमी से मिलेगी पेट्रोल-डीजल की महंगाई से राहत!

यह भी पढ़ें: पेट्रोल-डीजल को लेकर आई अच्छी खबर, लगातार बढ़ते दाम पर लगी रोक

-Adv-

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप डेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More