‘मिशन 2022’ को लेकर कांग्रेस ने बनाया ये प्लान, सपा-बसपा के वोटबैंक पर प्रियंका गांधी की नजर

लखीमपुर खीरी की घटना ने  सूबे में हाशिये पर चल रही कांग्रेस को अर्से बाद अपनी सियासी जमीन वापस पाने का मौका दिया है।

0 311

लखीमपुर हिंसा को लेकर कांग्रेस न सिर्फ मुखर है, बल्कि योगी सरकार को घेरने की कोशिशों में भी है। एक लिहाज से देखें तो लखीमपुर खीरी की घटना ने सूबे में हाशिये पर चल रही कांग्रेस को अर्से बाद अपनी सियासी जमीन वापस पाने का मौका दिया है। यही वजह है कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के वाराणसी की रैली को आखरी वक्त में किसानों से जोड़ने के लिए ‘किसान न्याय रैली’ का नाम दे दिया गया। बनारस की रैली में लोगों से मिले समर्थन से उत्साहित कांग्रेस ने प्रियंका गांधी के चुनावी कम्पैन का मेगा कार्यक्रम बनाया है। प्रियंका गांधी आने वाले समय में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर पुरे उत्तर प्रदेश में रैली, नाव यात्रा और सड़क यात्रा करती हुई दिखाई देंगी।

पहला पड़ाव पश्चिमी यूपी:

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी पश्चिमी यूपी से 22 अक्टूबर को औपचारिक रूप से विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार पर निकलेंगी। प्रियंका गांधी के पहले चरण के चुनाव प्रचार के अभियान की शुरुआत मेरठ या सहारनपुर से होगी। वही प्रियंका की यात्रा का दूसरा पड़ाव बुंदेलखंड होगा।

सेंट्रल यूपी में रहेगी बड़ी चुनौती:

प्रियंका गांधी पूर्वांचल यात्रा पर जनसभा और सड़क यात्रा के साथ ही नाव यात्रा भी करेंगी। नाव यात्रा के जरिए प्रियंका गांधी किनारे से सटे गांव के लोगों से बातचीत करेंगी। नाव यात्रा की जिम्मेदारी प्रियंका ने महिला नेता को दी है। प्रियंका गांधी के चुनाव अभियान का अगला पड़ाव सेंट्रल यूपी होगा। गौरतलब हो कि, सेंट्रल यूपी में सपा-बसपा के सोशल इंजिनियरिंग का वोटबैंक पर अच्छा खासा प्रभाव माना जाता है। ऐसे में प्रियंका के लिए इस वोटबैंक को अपने पाले में लाने की बड़ी चुनौती होगी।

अलग-अलग जोन में बांटा यूपी को:

चुनाव-प्रचार के लिए प्रियंका गांधी ने प्रदेश को अलग-अलग हिस्सों में बाट दिया है। जिसमें मुख्य रूप से पूर्वी उत्तर प्रदेश, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, सेंट्रल यूपी और बुंदेलखंड है। अलग-अलग जोन की जिम्मेदारी कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता को दी गई है। जिसमें प्रमुख रूप से सलमान खुर्शीद, प्रमोद तिवारी, राजेश मिश्रा, अजय कुमार लल्लू, पीएल पुनिया और आराधना मिश्रा हैं।

 

यह भी पढ़ें: धोनी के मैच विजयी शॉट जमाते ही भावुक हो गईं साक्षी, देखिए CSK की जीत के इमोशनल लम्हें

यह भी पढ़ें: क्या होता है ब्लैकआउट ? अचानक कैसे पैदा हो गया भारत में अप्रत्याशित बिजली संकट ?

(अन्य खबरों के लिए हमेंफेसबुकपर ज्वॉइन करें। आप हमेंट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप हेलो एप्प इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More