कॉमनवेल्थ गेम्स 2022: भारत को मिला पांचवां पदक, वेटलिफ्टिंग में जेरेमी ने जीता गोल्ड मेडल, पीएम मोदी ने दी बधाई

0 64

रविवार का दिन भारत के लिए काफी अच्छा रहा. बर्मिंघम में चल रहे कॉमनवेल्थ गेम्स में हिंदुस्तान को आज पांचवां पदक मिल गया है. 19 वर्षीय जेरेमी लालरिनुंगा ने इतिहास रचते हुए वेटलिफ्टिंग गोल्ड मेडल जीत लिया है. इसके साथ ही लालरिनुंगा बर्मिंघम में गोल्ड मेडल जीतने वाले भारत के पहले पुरुष एथलीट बन गये हैं. पीएम नरेंद्र मोदी ने जेरेमी लालरिनुंगा को जीत की बधाई दी है. भारत को अब तक पांच पदक मिल चुके हैं जोकि वेटलिफ्टिंग से ही आए हैं.

पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने ट्वीट में लिखा ‘हमारी युवा शक्ति इतिहास रच रही! जेरेमी लालरिनुंगा को बधाई, जिन्होंने अपने पहले ही राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीता है और साथ ही एक अभूतपूर्व राष्ट्रमंडल खेल रिकॉर्ड भी बनाया है. छोटी सी उम्र में उन्होंने अपार गौरव और यश हासिल किया है. उन्हें उनके भविष्य के प्रयासों के लिए शुभकामनाएं.’

मिजोरम के रहने वाले जेरेमी लालरिनुंगा ने 67 किग्रा भारवर्ग में 300 किग्रा भार उठाकर गोल्ड मेडल जीता है. उन्होंने स्नैच में कॉमनवेल्थ रिकॉर्ड बनाते हुए 140 किग्रा वजन उठाया. पहले प्रयास में जेरेमी ने 136 किग्रा वजन उठाया था और दूसरे प्रयास में और बेहतर करते हुए जेरेमी ने 140 किग्रा वजन उठाया. हालांकि, तीसरे प्रयास में वो 143 किग्रा वजन उठाने में असफल रहे.

इसके बाद क्लीन एंड जर्क में जेरेमी ने पहले प्रयास में 154 किग्रा वजन उठाया और चोटिल हो गए. दूसरे प्रयास में जेरेमी ने 160 किग्रा वजन उठाया. तीसरे प्रयास में उन्होंने 165 किग्रा वजन उठाने की कोशिश की और असफल रहे, जेरेमी की कुहनी में भी चोट लग गई. जेरेमी का मुकाबला समोआ के वैपावा नेवो के साथ था. वैपावा ने स्नैच में 127 किग्रा और क्लीन एंड जर्क में 166 किग्रा वजन उठाकर सिल्वर मेडल जीता.

जेरेमी लालरिनुंगा से पहले महिलाओं में मीराबाई चानू ने गोल्ड मेडल जीता था. चानू और लालरिनुंगा के गोल्ड मेडल के अलावा बिंदियारानी देवी ने सिल्वर, संकेत महादेव सरगर ने सिल्वर और गुरुराजा पुजारी ने ब्रॉन्ज मेडल जीता है. कॉमनवेल्थ गेम्स में पहले दिन भारत ने कोई पदक नहीं जीता था.

बता दें जेरेमी ने महज छह साल की आयु में अपने पिता के मार्गदर्शन में एक मुक्केबाज के रूप में अपना प्रशिक्षण शुरू कर दिया था. उनके पिता राष्ट्रीय स्तर के बॉक्सर थे. बाद में जेरेमी ने वेटलिफ्टिंग में अभ्यास करना शुरू किया. सिर्फ 10 साल की आयु में जेरेमी ने वजन उठाना शुरू कर दिया था. इसके बाद जेरेमी ने विजय शर्मा से प्रशिक्षण लिया और बाद में उन्होंने पुणे के आर्मी स्पोर्ट्स इंस्टीट्यूट में ट्रेनिंग शुरू की. साल 2016 में, जेरेमी ने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भाग लेना शुरू किया.

जेरेमी लालरिनुंगा ने राष्ट्रमंडल चैम्पियनशिप में पुरूषों के 67 किग्रा वर्ग में 305 किग्रा वजन उठाकर गोल्ड मेडल जीता था. युवा ओलंपिक में गोल्ड जीतने वाले पहले भारतीय जेरेमी लालरिनुंगा हैं. उन्होंने साल 2018 युवा ओलंपिक में पुरूषों की 62 किग्रा स्पर्धा में 274 किग्रा वजन उठाकर गोल्ड मेडल अपने नाम किया था. उस समय जेरेमी केवल 15 साल के थे.

 

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More