यूपी: सरकारी, बेसिक और प्राइमरी स्कूलों के करोड़ों छात्रों के अभिभावकों के खाते में सीएम योगी ने भेजे 1200 रुपए

0 52

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को सरकारी, बेसिक और प्राइमरी स्कूल में पढ़ रहे 1.91 करोड़ छात्रों के अभिभावकों के बैंक खाते में स्कूल यूनिफॉर्म और स्टेशनरी के लिए 1200 रुपए डीबीटी के माध्यम से भेज दिए हैं. लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित कार्यक्रम में सीएम योगी ने सर्वोच्च स्वच्छता वाले विद्यालय के प्रधानाध्यापकों और ग्राम प्रधानों को स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार से सम्मानित किया और शिक्षकों को अपने कर्तव्य का अच्छे से पालन करने की शपथ भी दिलाई.

सीएम योगी ने कहा

‘1.91 करोड़ परिषदीय स्कूलों के बच्चों को डीबीटी से पैसा ट्रांसफर कर बच्चों को शिक्षा से जोड़ने का अभियान शुरू हुआ. स्कूल चलो अभियान के अच्छे परिणाम आये हैं. अभियान की सफलता से 1.91 करोड़ नामांकन हुआ है. कोरोना के कारण हमारा जनजीवन प्रभावित हुआ है. कोरोना से हमारी बेसिक शिक्षा भी सबसे अधिक प्रभावित हुई है. इस दौरान सरकार ने प्रयास कर ऑनलाइन और दूरदर्शन के जरिये शिक्षा की व्यवस्था की.’

सीएम योगी ने कहा

‘वर्ष 2017 से पहले स्कूलों की स्थिति अच्छी नहीं थी. स्कूलों में कहीं शिक्षक थे तो छात्र नहीं थे, कहीं भवन नही थे. स्कूल में बिल्डिंग में बड़े बड़े पेड़ थे, स्कूल भवन पार्क लगता था. अभिभावक बच्चों को स्कूल नहीं भेजना चाहते थे. लेकिन, अब बेसिक शिक्षा को विश्वास का प्रतीक बनाया गया है. पांच साल में विद्यार्थियों की संख्या 1.34 करोड़ से बढ़कर 1.91 करोड़ हो गई है. पहले 60 फीसदी विद्यार्थियों को नंगे पैर स्कूल जाना पड़ता था पर अब वो बच्चे भी कॉन्वेंट स्कूल की तर्ज पर स्थापित परिषदीय स्कूल में जा रहे है.’

सीएम योगी ने कहा

‘शिक्षकों पर बड़ी जिम्मेदारी है. बच्चों का माता-पिता के बाद सबसे अधिक संवाद शिक्षक से ही होता है. बच्चों की बेसिक शिक्षा की जिम्मेदारी के वाहक शिक्षक हैं. आज का समय तकनीक का समय है. तकनीक के साथ भावनात्मक जुड़ाव रखना होगा. तकनीक से परहेज नहीं करना है. तकनीक बच्चे के आगे बढ़ने का रास्ता प्रशस्त करेगी लेकिन संवेदना बच्चे को राष्ट्र से जुड़ने की प्रेरणा देगी.’

बता दें राजधानी लखनऊ स्थित इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित कार्यक्रम में कायाकल्प दिव्यांजली पोर्टल का भी अनावरण किया गया. इस मौके पर सीएम योगी ने अपने संबोधन में ये बातें कहीं.

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More