सस्ती चीनी के लिए केंद्र सरकार का बड़ा कदम, बढ़ाई गई निर्यात पर लगी रोक

0 185

केंद्र सरकार ने घरेलू बाजार में चीनी के दामों पर नियंत्रण बनाए रखने के लिए चीनी के निर्यात पर लगी रोक को सीधे एक साल के लिए और बढ़ा दिया है. इसे बढाकर साल 2023 तक बढ़ा दिया गया है प्रतिबन्ध बढ़ाए जाने के संबंध में सरकार ने शुक्रवार को आदेश जारी किया था, आपको बता दें कि भारत गन्ना उत्पादन में सबसे बड़ा देश है. रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, अधिकारीयों ने बताया कि इस बार देश में गन्ने की रिकॉर्ड पैदावार होने की उम्मीद है. इससे भारत के लिए 80 लाख टन शुगर के निर्यात का मौका बन सकता है.

भारत में शुगर सीजन 2022-23 में 2.75 करोड़ टन चीनी की खपत का अनुमान है. इसमें से 45 लाख टन चीनी का इस्तेमाल मिल्स इथेनॉल बनाने के लिए करेंगी. इसके अलवा 60 लाख टन का चीनी को वार्षिक बचत स्टॉक के रूप में सुरक्षित रखा जाएगा.

Also Read:  हर जिले में खुलेगा साइबर थाना, साइबर क्राइम पर लगेगी लगाम- CM योगी

सीजन 2021-22 में हुआ था जमकर निर्यात:
पिछले शुगर सीजन में 1 करोड़ 9 लाख टन चीन का निर्यात हुआ था जो उससे पिछले सीजन से 57 फीसदी अधिक था. इसकी बदौलत भारत को 40,000 करोड़ रुपये का निवेश प्राप्त हुआ था. शुगर सीजन 2021-22 के अंत में शुगर मिल्स द्वारा गन्ना किसानों को 6000 करोड़ रुपये देना बाकी रह गया था. यह तब था जब कंपनियां 1.12 लाख करोड़ रुपये किसानों को दे चुकी थीं. उस सीजन में रिकॉर्ड 5000 लाख टन गन्ने का उत्पादन हुआ था.

भारत में सुगर सीजन आमतौर पर अक्टूबर से सितंबर तक चलता है. वहीं, गन्ने की पिसाई का काम अक्टूबर-नवंबर में शुरू होता है और अप्रैल तक चलता है. भारत में शुगर मिल्स 80 लाख से 1 करोड़ टन के स्टॉक के साथ काम की शुरुआत करती हैं. हालांकि, इस साल इसके 60 लाख टन रहने की उम्मीद है.

Also Read:  MP: लाखों का सामान वापस कर चोर ने भगवान से मांगी माफी, वायरल हो रहा लेटर

 

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More