एसपी आजमगढ़ का ऐलान, जमातियों की सूचना देने वाले को 5 हजार का ईनाम

उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले में तबलीगी जमातियों पर प्रशासन ने सख्ती शुरू कर दी है।

0 452

कोरोना से मचे कोहराम की चेन तोड़ने के लिए उत्तराखंड राज्य पुलिस ने फरार संदिग्ध तबलीगियों पर कत्ल की कोशिश और कत्ल का मुकदमा कायम करना शुरू किया। हिमाचल प्रदेश पुलिस ने तबलीगियों संग जिला स्तर पर इन्हें शरण दिलवाने वाले अमीर के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज करने का ऐलान किया।

अब देश में यूपी के आजमगढ़ जिले के पुलिस अधीक्षक ने इससे भी कई कदम आगे कर दिखाया है। एसपी आजमगढ़ ने तबलीगियों का सुराग देकर उन्हें पकड़वाने वाले को 5000 रुपये नकद इनाम देने की घोषणा कर दी है। जबकि यूपी पुलिस में अमूमन खतरनाक से खतरनाक फरार बदमाश के सिर पर भी पुलिस 2 हजार या 3 हजार का ही इनाम रख पाती है।

आजमगढ़ के पुलिस अधीक्षक त्रिवेणी सिंह ने खुद इनाम की इस घोषणा की पुष्टि की। उन्होंने कहा, जिले में कई दिन से तबलीगियों के छिपे होने की बातें सामने आ रही हैं। थाना पुलिस को भी मैंने एक भी संदिग्ध तबलीगी को बचकर न जाने देने की हिदायत दे रखी है।

एसपी आजमगढ़ ने आगे कहा, इतने दिन की कोशिश और तबलीगियों द्वारा मचाये जा रहे कोहराम के बीच मैंने सोचा कि इस काम में आमजन की मदद भी ली जाये। क्योंकि पब्लिक पुलिस की मददगार हमेशा रही है। तबलीगी छिपे भी पब्लिक के ही बीच में हैं। लिहाजा इसीलिए मैंने पब्लिक का ही सपोर्ट चाहा।

इसी योजना के तहत तय किया कि तबलीगियों के करीब पब्लिक, पुलिस को बहुत जल्दी पहुंचा सकेगी। लिहाजा तय हुआ कि, जो भी जिले में छिपे हुए तबलीगियों से संबंधित जानकारी देगा। तबलीगियों को पकड़वायेगा उसे 5000 हजार का इनाम दिया जायेगा।

अगर कोई पुलिस वाला इन तबलीगियों को पकड़ता है तो क्या इस 5000 हजार की नकद इनामी राशि पर पुलिस वाले का भी दावा होगा? पूछे जाने पर एसपी आजमगढ़ त्रिवेणी सिंह ने कहा, वांछित को पकड़वाने की ईनामी धनराशि का हक सबका बराबर होता है। यह सरकारी खजाने की धनराशि है। जो भी तबलीगियों को पकड़वायेगा या पकड़ेगा, वो अपना दावा पेश कर सकता है। ईनामी राशि के असली हकदार का नाम तय करने की जिम्मेदारी जिला पुलिस अफसरों की कमेटी की होगी।

तबलीगियों की सुरागसी करने वाले को पांच हजार राशि देने की घोषणा के अब तक क्या रिजल्ट्स रहे हैं? पूछे जाने पर आजमगढ़ के पुलिस अधीक्षक ने आईएएनएस से कहा, खबरें आनी शुरू हो गयी हैं। पुलिस वालों में भी इस घोषणा से आशा की किरण जगी है। इस बात को लेकर की जब आमजन पुलिस की मदद करेगी, तो यह कदम या उपाय खाली नहीं जायेगा। कई सूचनाएं आई हैं। जिन्हें पक्का करने में पुलिस टीमें और हमारा जिले का स्थानीय खुफिय तंत्र (एलआईयू यानि लोकल इंटेलीजेंस यूनिट) जुट गयी है।

एसपी त्रिवेणी सिंह ने आगे कहा, जिले में अभी तक पुलिस ने 38 तबलीगी पकड़े हैं। इन सभी को कोरोंटाइन करा दिया गया है। यह सभी दिल्ली के निजामुद्दीन बस्ती मरकज तबलीगी जमात मुख्यालय से जुड़े पाये गये हैं। इनमें से 3 तबलीगियों सहित चार कोरोना पॉजिटिव पाये गये हैं। इन चार में चौथा वो स्थानीय मौलाना कोरोना पॉजिटिव है जिसने, दिल्ली जमात हेड क्वार्टर से आजमगढ़ पहुंचे जमातियों के साथ मीटिंग की थी।

यह भी पढ़ें: कोरोना का कहर : तो क्या भूख से मर जायेंगे दुगुने लोग?

यह भी पढ़ें: निरहुआ के लिए आजमगढ़ पहुंचे आम्रपाली दुबे और पवन सिंह, किया चुनाव प्रचार

-Adv-

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप हेलो एप्प इस्तेमाल करते हैं तो आप हमें फॉलो करें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More