विश्व चैंपियनशिप 2021 : रजत पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान बनी अंशु मलिक

0 335

अंशु मलिक ने गुरुवार को इतिहास रचते हुए विश्व चैंपियनशिप में रजत पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान बन गईं। 20 वर्षीय मलिक ने नॉर्वे के ओस्लो में विश्व चैंपियनशिप में दो बार के ओलंपिक पदक विजेता हेलेन मारौलिस से अपना अंतिम मुकाबला 1-4 से गंवा दिया। इस बीच एक अन्य भारतीय पहलवान सरिता मोर (59 किग्रा) ने भी देश के लिए कांस्य पदक जीता।

विश्व कुश्ती फाइनल में पहुंचने वाली पहली भारतीय महिला-

अंशु ने बुधवार को महिलाओं के 57 किग्रा सेमीफाइनल में यूरोपीय रजत पदक विजेता यूक्रेन की सोलोमिया विन्निक को हराया था। खेल स्कूल निडानी की अंशु विश्व कुश्ती फाइनल में पहुंचने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान है। पहलवान सुशील ने वर्ष 2010 में भारत को इकलौता गोल्ड दिलाया था।

दर्द ने दिखीं अंशु-

इस मुकाबले में गत एशियाई चैंपियन अंशु काफी दर्द में दिख रही थी लेकिन अमेरिकी पहलवान ने अपनी पकड़ कमजोर नहीं होने दी और भारतीय पहलवान को चित्त करके जीत दर्ज की। अंशु को मुकाबले के तुरंत बाद चिकित्सा सहायता लेनी पड़ी और उनकी आंखों में आंसू नजर आ रहे थे। अंशु हालांकि विश्व चैंपियनशिप में रजत पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला बन गई हैं।

कई भारतीयों ने लहराया है परचम-

कैडेट वर्ल्ड चैंपियन और जूनियर वर्ल्ड सिल्वर मेडलिस्ट अंशु 2010 के चैंपियन सुशील कुमार और 2018 के सिल्वर मेडलिस्ट बजरंग पुनिया के बाद वर्ल्ड चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचने वाली तीसरी भारतीय थीं। गीता फोगट (2012), बबीता फोगट (2012), पूजा ढांडा (2018) और विनेश फोगट (2019) ये अन्य भारतीय महिला पहलवान हैं जिन्होंने इससे पहले कांस्य पदक जीते

यह भी पढ़ें: इंग्लैंड को मात देकर ICC वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचा भारत

यह भी पढ़ें: भारत की बेटी Priya Malik ने रचा इतिहास, विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में जीता Gold

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप हेलो एप्प इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

 

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More